झामुमो वोट के लिए जमीन छिनने का दिखा रहा भय: रघुवर

सुकन्या योजना जागरूकता समारोह में सीएम ने झामुमो पर निशाना साधा / भाजपा गरीब आदिवासियों के विकास के बारे में सोचती है, उनके नाम पर राजनीति नहीं करती / धर्मांतरण कराने वालों को भेजा जाएगा होटवार जेल

पाकुड़। निज संवाददाता। लिट्टीपाड़ा प्रखंड के विजयमाझी स्टेडियम में मुख्यमंत्री सुकन्या योजना जागरूकता समारोह का उद्घाटन गुरुवार को मुख्यमंत्री रघुवर दास ने बतौर मुख्य अतिथि किया। मौके पर लोगों को संबोधित करते हुए उन्होंने झामुमो पर जमकर निशाना साधा। उन्होंने अपने चार साल की उपलब्धियों को जनता के सामने रखा। कहा कि भाजपा की सरकार ने राज्य के समग्र विकास पर विशेष ध्यान दिया है। झारखंड अमीर राज्य है, पर राज्य के रहनेवाले आदिवासी गरीब हैं। सरकार इनकी गरीबी दूर करने के लिए लगातार प्रयास कर रही है।

शहर व गांव के फर्क को मिटा रही सरकार

मुख्यमंत्री ने कहा कि हम आदिवासियों के नाम पर राजनीति नहीं करते। जबकि झामुमो ने आदिवासियों को जमीन छिनने का डर दिखा कर अपने पक्ष में वोट मांगने का तरीका अपनाया है। सरकार गांव और शहर के अंतर को मिटाने में लगी है, ताकि गांव से पलायन ना हो। उन्होंने कहा कि सरकार ने बिजली, पानी और शिक्षा उपलब्ध करवाने का कार्य किया है। झामुमो गांव में बिजली नहीं पहुंचाने देना चाहता। क्योंकि उन्हें डर है कि गांव में बिजली पहुंचेगी तो वहां विकास होगा और विकास होगा तो लोग शिक्षित बनेंगे। इससे उनकी राजनीति समाप्त हो जाएगी। श्री दास ने झामुमो पर निशाना साधते हुए कहा कि आदिवासियों को झामुमो ने शिक्षा से दूर रखने का कार्य किया है।

सीएम ने धर्मांतरण कराने वालों को चेताया

श्री दास ने धर्मांतरण करने वालों को चेताया और कहा कि राज्य में एक साजिश के तहत धर्म के नाम पर अर्धम किया जा रहा है। हम सभी धर्म और समुदाय के साथ परंपरा का आदर करते हैं। मगर, धर्म के नाम पर धर्मांतरण करने वालों को सरकार बख्शेगी नहीं। उन्होंने कहा कि अधर्म करने वालों को होटवार जेल भेजा जाएगा। सरकार हर घर में स्वच्छ पानी, बिजली देने को तत्पर है।

बालिका शिक्षा पर सरकार का फोकस

सीएम श्री दास ने बालिका शिक्षा पर जोर देते हुए कहा कि सरकार का एक ही नारा है- ‘पहले पढ़ाई इसके बाद विदाई’। उन्होंने कहा कि राज्य की सभी बच्चियां पूरे लगन से शिक्षा ग्रहण करें, इसके लिए सरकार उन्हंे हर प्रकार की सुविधा देने को तत्पर है। संताल परगना से 3 मुख्यमंत्री झारखंड को मिल चुके हैं, लेकिन इस क्षेत्र पर ध्यान नहीं दिया गया।

2019 तक सभी घरों में बिजली

उन्होंने कहा कि आजादी के बाद से मात्र 38 ग्रिड का निर्माण झारखंड में हुआ। जबकि 134 ग्रिड की जरूरत राज्य को थी। वर्तमान सरकार ने इस जरूरत को समझा और 60 ग्रिड का निर्माण कार्य कराया जा रहा है। 217 सब स्टेशन बन रहे हैं, ताकि बिजली का संचरण और वितरण सुचारू रूप से हो और आप तक बिजली पहुंचे। आपको पता है कि बिजली आती है और जाती है। इसकी वजह हमारी निर्माण प्रक्रिया है। सीएम ने आश्वस्त किया कि नवंबर 2019 तक गांव में भी 24 घंटे बिजली उपलब्ध होगी। वैसे भी राज्य सरकार ने अपने 4 साल के कार्यकाल में 30 लाख घरों को बिजली से आच्छादित किया है। बचे हुए कुछ घरों तक मार्च 2019 तक बिजली पहुंच जाएगी। वैसे 10 हजार घर जहां बिजली पहुंचाना आसान नहीं है, वहां सोलर के माध्यम से बिजली पहुंचाई जाएगी। इस क्षेत्र के मसीहा आखिर क्या करते रहे। इतने वर्षों तक क्यों घर घर बिजली नहीं पहुंचाई।

सीएम के साथ ये भी थे मौजूद

मौके पर सूबे की समाज कल्याण मंत्री लुईस मरांडी, समाज कल्याण विभाग के सचिव अमिताभ कौशल, संताल परगना के आयुक्त भगवान दास, डीआइजी राजकुमार लकड़ा, डीसी कुलदीप चौधरी, एसपी सुनील भास्कर, जिप अध्यक्ष बाबूधन मुर्मू, जिप उपाध्यक्ष मुकेश शुक्ला समेत दर्जनों लोग उपस्थित थे।

You May Also Like

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *