हैदराबाद से गुजरात को साध गये प्रधानमंत्री मोदी

गुजरात मिल्क को-ऑपरेटिव व लिज्जत पापड़ सरकारी आंदोलन का पीएम ने दिया उदाहरण

हैदराबाद में चल रहे ग्लोबल एंटरप्रेन्योरशिप समिट से प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने गुजरात को साधने की कोशिश की। दूसरी ओर अमेरिकी राष्ट्रपति की बेटी इवांका ट्रंप ने भी पीएम मोदी के कदमों की जिस तरह से तारीफ की उससे मोदी का गुजरात मजबूत ही हुआ। कार्यक्रम में इवांका ने कहा कि प्रधानमंत्री मोदी ने बचपन में चाय बेचने से लेकर भारत के पीएम चुने जाने तक जो भी हासिल किया है वह असाधारण है। जबकि औरतों की आत्मनिर्भरता को जरूरी और इसे सरकारी एजेंडे में बताकर मोदी ने गुजरात मिल्क को-ऑपरेटिव व लिज्जत पापड़ सरकारी आंदोलन का जिक्र किया।

प्रधानमंत्री मोदी ने महिलाओं के योगदान को गिनाया। कहा कि भारत में महिलाओं को शक्ति की देवी माना जाता है। गार्गी से लेकर लक्ष्मीबाई और एंट्राप्रेन्योरशिप से लेकर मार्स मिशन तक महिलाओं का बड़ा योगदान रहा है। पीएम मोदी ने साइना नेहवाल, कल्पना चावला, सुनीता विलियम्स का जिक्र किया। भारत महिलाओं के एंटरप्रेन्योरशिप के बारे में बताते हुए पीएम ने गुजरात मिल्क कोऑपरेटिव का उदाहरण दिया। मोदी ने कहा कि महिलाएं किसी काम में पीछे नहीं हैं। युद्ध और स्वतंत्रता संग्राम में उनकी बड़ी भूमिका रही है। अभी अंतरिक्ष प्रोग्राम में भारतीय महिलाओं की सराहनीय भूमिका है। भारत सरकार निचले स्तर पर भी महिलाओं को लीडरशिप देने में मदद कर रही है। लिज्जत पापड़ जैसे सहकारी आंदोलनों को महिलाओं ने ही नेतृत्व दिया है।

उधर इवांका ट्रंप ने कहा कि भारत के लोगों को अपनी आजादी के 70 साल का जश्न मनाना चाहिए। पहली बार है जब दुनिया की 1500 महिला एंटरप्रेन्योर किसी ऐसे इवेंट में जुटी हैं। अमेरिका में भी महिलाओं को आसान कर्ज दिलाने का अभियान शुरू किया गया है। अमेरिका में इस साल 50 करोड़ डॉलर कर्ज महिलाओं को दिया गया है। उन्होंने कहा कि कई देशों में महिलाओं को हर काम पति से पूछ कर करना पड़ता है। कई देशों में महिलाओं पर तरह तरह की पाबंदियां हैं। अगर भारत लिंगभेद आधा कर दे तो 3 साल में 150 अरब डॉलर का उसे फायदा होगा। महिला एंटरप्रेन्योर को मौका मिले तो वे पुरुषों से बेहतर प्रदर्शन करेंगी। इवांका ट्रंप ने कहा कि भारत नये रास्ते पर चल पड़ा है, अमेरिका इसमें भारत के साथ है।

इसी तरह प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने फिर से भारत के बौद्धिक संसाधन का जिक्र करते हुए चरक संहिता, योगा और कौटिल्य के अर्थशास्त्र का महत्व बताया। उन्होंने कहा कि इवेंट में 50 फीसदी से ज्यादा प्रतिनिधि महिलाएं हैं। इनमें कई महिलाओं ने कारोबार में मुकाम बनाया है। समिट में महिला एंटरप्रेन्योर को बढ़ावा देने के नये तरीकों पर चर्चा होगी। चरक संहिता, योगा जैसे भारतीय विज्ञान से पूरी दुनिया परिचित है। बहुत से एंटरप्रेन्योर योगा, आयुर्वेद जैसे तरीकों को बढ़ावा दे रहे हैं। आधुनिक आर्थिक विषयों की चर्चा भी कौटिल्य के अर्थशास्त्र में मिलती है। वक्त से पहले और दुनिया से अलग सोचने वाले लोगों में भारतीय युवा एंटरप्रेन्योर शामिल हैं।

बहरहाल, आठवें ग्लोबल एंटरप्रेन्योरशिप समिट में विदेश मंत्री सुषमा स्वराज, मिस वर्ल्ड मानुषी छिल्लर, अभिनेत्री सोनम कपूर, टेनिस खिलाड़ी सानिया मिर्जा, आईसीआईसीआई बैंक की सीईओ चंदा कोचर और महिला क्रिकेटर मिताली राज भी इस समारोह में शामिल होंगी। समिट को टेनिस खिलाड़ी, गूगल की उपाध्यक्ष डायना लुईस पैट्रिसा लेफील्ड और अफगान सीटाडेल की सीईओ राया महबूब जैसी कई हस्तियां भी संबोधित करेंगी। समिट में भाग लेने के लिए इवांका ट्रंप 28 से 30 नवंबर के बीच यहां रहेंगी। इसी के मद्देनजर हैदराबाद की सुरक्षा व्यवस्था चाक चैबंद रखी गयी है।

You May Also Like

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *