नीतीश भाजपाई चमचा, ‘अज़ान’ सुन भी देते रहे भाषण

राजद नेता शिवानंद तिवारी ने लगाया बिहार के सीएम पर आरोप, कहा नीतीश धर्मनिरपेक्षता के लिए कटिबद्ध नहीं

पटना। अज़ान की आवाज सुनकर भी कथित तौर पर बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार का भाषण नहीं रोकना राजद को नागवार गुजरा है। इससे राजद के वरिष्ठ नेता शिवानंद तिवारी आहत हुए हैं। उनका आरोप है कि बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने अजान की आवाज आने पर भी अपना भाषण नहीं रोका और बोलते ही रहे। पूरे मामले में आहत तिवारी ने कहा है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और भाजपा की चमचागिरी के लिए नीतीश कुमार ने धर्मनिरपेक्षता के प्रति अपनी कटिबद्धता छोड़ दी है।

दूसरी ओर बिहार की सत्ता पर काबिज पार्टी जदयू ने आरोप को खारिज कर दिया है। साथ ही शिवानंद तिवारी पर 1980 के दशक में सैकड़ों लोगों की जान लेने वाले भागलपुर दंगों के दोषियों को आश्रय देने वालों का साथ देने का आरोप लगाया है। उधर राजद उपाध्यक्ष तिवारी ने एक बयान में आरोप लगाया है कि नीतीश पहले अजान के लिए मुअज्जिन की अपील सुनकर भाषण देने से रुक जाते थे। लेकिन, कल उनमें काफी बदलाव देखा गया है। पटना में एक पुल का उद्घाटन करने के बाद नीतीश भाषण दे रहे थे। मगर, पास की ही मस्जिद से अजान के लिए मुअज्जिन की अपील सुनकर वे भाषण देने से नहीं रुके।

इस जंग-ए-बयान में कूदे जदयू के प्रवक्ता नीरज कुमार ने तिवारी के आरोप पर कहा कि यह नीतीश कुमार ही थे जो मुख्यमंत्री के रूप में भागलपुर दंगों के आरोपियों को न्याय के कठघरे में लेकर आये। आरोपियों को राज्य की पूर्व राजद सरकार ने आश्रय दिया था। शिवानंद तिवारी खुद षड्यंत्रकारियों को बचाने वालों का साथ दे रहे हैं।

You May Also Like

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *