अब पाकिस्तान में चलेगी चीनी करेंसी युआन

डोनाल्ड ट्रंप की पाक को फटकार के बीच इस्लामाबाद की पीठ थपथपाकर चीन ने निशाने पर साधा दांव

पाकिस्तान को अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप की फटकार के बीच इस्लामाबाद की पीठ थपथपाकर चीन ने निशाने पर कुटनीतिक दांव साध लिया है। व्यापार के लिए पाकिस्तान में जो दर्जा अभी तक अमेरिकी डॉलर को मिलता था, वही अब चीनी करेंसी को मिलने वाला है। पाकिस्तानी सेंट्रल बैंक ने चीन के साथ द्विपक्षीय व्यापार को बढ़ावा देने के लिए अब चीनी करेंसी युआन को भी मंजूरी दे दी है। मसलन अब चीन और पाकिस्तान पने व्यापार के लिए यूएस डॉलर की जगह युआन का प्रयोग करेंगे। यह निर्णय पाकिस्तान ने डोनाल्ड ट्रंप के पाकिस्तान पर भड़काऊ टिप्पणी के बाद लिया है।

स्टेट बैंक ऑफ पाकिस्तान ने मंगलवार को प्रेस रिलीज जारी कर कहा कि पाकिस्तान में व्यापार आदान प्रदान में चीन की युआन करेंसी को विदेशी मुद्रा के बतौर स्वीकार कर लिया गया है। रिपोर्ट में कहा गया है कि स्टेट बैंक ऑफ पाकिस्तान पहले से ही निवेश और व्यापार के लिए युआन करेंसी को मंजूरी के लिए मन बना लिया था। पाकिस्तान के ऐसा करने से चीन की करेंसी को यूएस करेंसी के बराबर का दर्जा मिलेगा। साथ ही डॉलर पर अपनी निर्भरता को भी पाक ने कम कर दिया है।

पाक के इस कदम से चीनी करेंसी को ना सिर्फ अमेरिकी डॉलर, बल्कि यूरो और जापान की येन की तरह इंटरनेशनल करेंसी बन जाएगी। पाक ने कहा है कि इससे पाकिस्तान और चीन के बीच व्यापार में तेजी आएगा। इतना ही नहीं चीन पाकिस्तान इकनॉमिक कोरिडोर के तहत बीजिंग अपना प्रभुत्व पाक में मजबूत करना चाह रहा है। अब इन दोनों देशों के बीच व्यापार डॉलर में नहीं बल्कि युआन करेंसी में होगा। मालूम हो कि डोनाल्ड ट्रंप के ट्वीट के बाद चीन ने पाकिस्तान का समर्थन करते हुए कहा है कि आतंकवाद के खिलाफ लड़ने के लिए पाक का बलिदान अभूतपूर्व है।

 

You May Also Like

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *