मदरसों में बढ़ते आतंकवाद पर शिया नेता ने किया सावधान

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को ख़त लिख कर प्रतिबंध लगाने की मांग की

मदरसों पर शिया वक्फ बोर्ड ने मंगलवार को बड़ा हमला बोला है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से बोर्ड के चेयरमैन वसीम रिजवी ने कहा है कि मदरसों से आतंकवाद बढ़ रहा है। लिहाजा उन पर प्रतिबंध लगाना चाहिए। ये बातें बोर्ड चेयरमैन ने एक ख़त के जरिए पीएम तक पहुंचाई हैं। अपनी चिट्ठी में उन्होंने आगे यह भी कहा है कि मदरसों को कॉन्वेंट स्कूलों में तब्दील किया जाना चाहिए, जहां विषय के रूप में इस्लामिक शिक्षा चुनने का बच्चों को विकल्प मिले।

रिजवी के इस ख़त पर आॅल इंडिया मजलिस-ए-इत्तेहादुल मुसलीमीन (एआईएमआईएम) के नेता असदुद्दीन ओवैसी ने उन्हें सबसे बड़ा जोकर और मौकापरस्त शख्स कहा है। उन्होंने कहा कि शिया वक्फ बोर्ड के चेयरमैन अपनी आत्मा राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ को बेच चुके हैं। रिजवी ने अपने इस ख़त को लेकर एक अंग्रेजी न्यूज चैनल से बात की। उन्होंने कहा कि मैंने पीएम को लिखी चिट्ठी में साफ कहा है कि हिंदुस्तान में चल रहे अधिकतर मदरसे गैर मान्यता प्राप्त हैं और वे चंदे से चल रहे हैं। इससे नुकसान ग्रामीण क्षेत्रों के बच्चों को हो रहा है। यहां पढ़ने वाले ज्यादातर मुस्लिम बच्चे बेरोजगारी की ओर बढ़ रहे हैं। क्योंकि यहां की पढ़ाई का स्तर गिरा हुआ है।

शिया वक्फ बोर्ड के मुखिया ने पूछा है कि कितने मदरसों ने इंजीनियर, डॉक्टर और आइएएस अधिकारी पैदा किए हैं? लेकिन, कुछ मदरसों ने आतंकी जरूर पैदा किए हैं। उन्होंने एएनआई से बातचीत में मदरसों को लेकर एक सुझाव भी दिया। उन्होंने कहा कि मदरसों को सीबीएसई-आईसीएसई से मान्यता लेनी चाहिए। उनमें अन्य धर्मों के बच्चों को भी पढ़ने की मान्यता मिलनी चाहिए। इतना ही नहीं धार्मिक शिक्षा का विकल्प भी वहां दिया जाना चाहिए। ओवैसी ने रिजवी के इस बयान पर कहा कि रिजवी सबसे बड़े जोकर हैं। वे सबसे मौकापरस्त इंसान हैं। अपनी आत्मा वे आरएसएस को बेच चुके हैं। उनके पास अगर इसका सबूत है तो वह गृह मंत्री से इसकी शिकायत कर सकते हैं।

 

You May Also Like

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *