7 सालों से साथ थे 4 बच्चों के अविवाहित मां-बाप, की शादी

बाजाप्ता कोर्ट में किया विवाह, जतायी खुशी

साहिबगंज। चार बच्चों के मां-बाप अविवाहित हों, सुनकर आपको यकीन नहीं होगा। लेकिन, यह सच है। वे सात सालों से बिना शादी किये बीते सात सालों से साथ-साथ रह रहे थे। बच्चे जब बड़े हुए तो महिला ने शादी के लिए बच्चों के पिता पर दबाव बनाया। बाद में उन्होंने बाजाप्ता कोर्ट पहुंचकर शादी रचा ली। सोमवार को उनकी शादी झारखंड के साहिबगंज के मध्यस्थता केंद्र, जिला विधिक सेवा प्राधिकार में हुई।

मालूम हो कि मंजू हेंब्रम ने शादी के लिए एक मामला अपने साथी घुमा मुर्मू के खिलाफ कुटुंब न्यायालय में दायर किया था। प्रधान न्यायाधीश दीपक नाथ तिवारी ने काउंसलिंग के बाद इस मामले को मध्यस्थता के लिए जिला विधिक सेवा प्राधिकार के मध्यस्थता केंद्र भेजा। जहां बतौर अधिवक्ता मध्यस्थ अरविंद गोयल को नियुक्त किया गया। दोनों पक्ष राजी-खुशी से इस बात पर सहमत हुए की आज ही मध्यस्थता केंद्र में विवाह की रस्म पूरी करेंगे।

मध्यस्थता केंद्र पर ही दोनों ने एक-दूसरे को वरमाला पहनाकर और घुमा मुर्मू ने मंजू हेंब्रम की मांग में सिंदूर डाल कर अपना विवाह संपन्न किया। मौके पर बतौर साक्षी कुटुंब न्यायालय के प्रधान न्यायाधीश दीपक नाथ तिवारी, जिला विधिक सेवा प्राधिकार के सचिव सूर्य मणि त्रिपाठी, अधिवक्ता अशोक यादव और अन्य अधिवक्ता, न्यायालयकर्मी सहित अन्य लोग मौजूद थे। दोनों ने शादी के बाद खुशी जाहिर की।

You May Also Like

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *