थानेदार समेत 4 पुलिसकर्मी घायल, बचाव में हुई हवाई फाइरिंग

प्रतिबंधित मांस की जांच को पहुंची पुलिस पर पत्थरबाजों ने किया हमला/बकरीद के उल्लास पर पत्थरबाजों पे पानी फेरा, डांगापाड़ा पुलिस छावनी में तब्दील/तनाव वाले क्षेत्रों में कैंप कर रहे हैं डीसी-एसपी, घटनास्थल के लिए निकले आयुक्त व डीआइजी

पाकुड़/ संवाददाता। जिले के महेशपुर थाना क्षेत्र के डांगापाड़ा गांव में प्रतिबंधित मांस काटे जाने की सूचना पर बुधवार को पहुंची पुलिस पार्ट पर कुछ ग्रामीणों ने पत्थराव कर दिया। इस हमले में हिरणपुर थाना प्रभारी अवधेश कुमार सिंह सहित 4 अन्य पुलिस पदाधिकारी व पुलिस जवान घायल हो गये हैं। हालात बेकाबू होते देख कई थानों की पुलिस को घटनास्थल पर भेजा गया। इस दौरान भी पथराव होने पर बचाव में पुलिस पार्टी को हवाई फाइरिंग करनी पड़ी। इससे पत्थरबाजों की भीड़ तितर-बितर हो गयी। बाद में घायल पुलिस जवानों को इलाज के लिए अस्पताल भेजा गया। घटना के घंटों बीत जाने के बाद भी स्थिति सामान्य नहीं हो पायी है। हालात सामान्य बनाने के लिए जिला प्रशासन ने गांव में धारा 144 लगा दिया है। पत्थरबाज होने के संदेह में 4 लोगों को हिरासत में लेकर पुलिस पूछताछ कर रही है। घटना के बाद डीसी दिलीप कुमार झा, एसपी शैलेंद्र प्रसाद बर्णवाल, एसडीओ जीतेंद्र कुमार देव, एसडीपीओ शशि प्रकाश, बीडीओ उमेश मंडल के अलावा जिले के कई थानों के पुलिस पदाधिकारी व पुलिस जवान गांव पहुंचकर तनावपूर्ण स्थिति को काबू करने में जुटे हैं। इधर बताया जाता है कि बकरीद के उल्लास के दिन प्रतिबंधित मांस की जांच को पहुंच के पहुंचने से कुछ गांव वाले नाराज थे और उन्होंने पथराव कर प्रतिक्रिया दी।

क्या है पूरा मामला?

महेशपुर थाना क्षेत्र के डांगापाड़ा गांव में प्रतिबंधित मांस काटे जाने की सूचना पुलिस को फोन पर मिली थी। सूचना पर बीडीओ उमेश मंडल व महेशपुर प्रभाग के एसडीपीओ शशि प्रकाश पुलिस बलों के साथ गांव पहुंचे। लेकिन, शिकायत की छानबीन शुरू हो पाती उससे पहले ही कुछ ग्रामीणों ने पुलिस पदाधिकारियों पर पथराव कर दिया। हालत बिगड़ती देख पदाधिकारियों को वहां से वापस लौटना पड़ा। इसके बाद पूरी तैयारी के साथ कार्रवाई के लिए गांव पहंचे पुलिस पदाधिकारियों व जवानों पर ग्रामीणों ने जमकर पथराव किया। पथराव की घटना के बाद गांव का मौहल काफी खराब हो गया है। गांव के बेकाबू होते हालात को काबू में लाने के लिए डीसी, एसपी सहित अन्य पदाधिकारियों ने माइक से ग्रामीणों को संबोधित भी किया। मगर, मामला नियंत्रण में नहीं आने पर पुलिस की ओर से आंसू गैस का गोला छोड़ा गया। वहीं घटना की सूचना पर दुमका आयुक्त, डीआई सहित अन्य जिले के पुलिस पदाधिकारी व पुलिस जवान भी घटना स्थल की ओर रवाना हो गये है। फिलहाल गांव कुछ पत्थरबाजों के कारण पुलिस छावनी में तब्दील हो गया है।

You May Also Like

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *