अपराध की पाठशाला बना दुमका का संत जोसेफ स्कूल

नशे की लत लगा कर घर में चोरी करवा रहे थे सीनियर छात्र/ जूनियर छात्रों को ब्लैकमेल कर की जा रही थी रुपयों की उगाही / अभिभावकों की शिकायत पर पुलिस पहुंची स्कूल, प्रचार्य ने कहा होगी कार्रवाई

दुमका/ संवददाता। संत जोसेफ स्कूल में जूनियर छात्रों को नशे की लत लगा कर सीनियर छात्रों के जरिये उनसे घर में चोरी कर रुपये की उगाही की जा रही है। अभिभावकों ने पहले इस मामले की शिकायत स्कूल के प्रचार्य से की और फिर नगर थाना में भी शिकायत की। शुक्रवार को नगर थाना प्रभारी देवव्रत पोद्दार अभिभावकों के साथ स्कूल पहुंचे और मामले की छानबीन की। स्कूल के प्राचार्य फादर पायस मरांडी ने कहा कि अभिभावकों से उन्हें इसकी जानकारी मिली है। किसी छात्र ने कभी उनसे कोई शिकायत नहीं की है। मामले में 9वीं और 8वीं कक्षा के दो छात्रों को चिन्हित किया गया है, जिन्हें 15 दिनों के लिए सस्पेंड किया जा सकता है। इसके अलावा कानूनी कार्रवाई भी संभव है। उन्होंने बताया कि दोनों छात्रों के उत्पीड़न का शिकार जूनियर कक्षाओं के 10 से 15 छात्र हुए हैं। स्कूल में चल रहे इस गौरखधंधे का खुलासा पीड़ित छात्रों की परिजनों से की गयी शिकायत के बाद हुआ।

क्या है अभिभावकों का आरोप

छात्रों के अभिभावकों का आरोप है कि स्कूल के सीनियर छात्र उनके बच्चों को डेनड्राईट, शराब, एलेक्ट्रोनिक सिगरेट, चक्का (नींद की दवाएं), बीयर की लत लगाते हैं। बाद में नशीला पदार्थ खरीदने के लिए उनसे घर में चोरी कर रुपया मंगवाते हैं। आरोप है कि स्कूल में एक रैकेट काम कर रहा है। अभिभावकों की आशंका है कि रैकेट में स्कूल के कोई कर्मी भी मिले हुए हैं। अभिभावक इंदू भूषण गुप्ता, संजीव सिंघानिया ने बताया कि संत जोसेफ स्कूल में जूनियर छात्रों से चोरी कराने का धंधा पिछले 6 महीने से चल रहा है। परिजनों को पहले यह समझ में नहीं आ रहा था कि घर से रुपये गायब कैसे हो रहे हैं। पूर्व में बच्चे घर से 100-200 रुपए ही गायब करते थे, लेकिन जब बच्चे एक हजार और 50 हजार रुपये तक घर से गायब होने लगे तब परिजनों ने बच्चों से कड़ाई से पूछताछ की। परिजनों ने पूछताछ के बाद चौंकाने वाला खुलासा हुआ। बच्चों ने जब घर में चोरी की बात स्वीकारी और उसका कारण स्कूल में नशा का सेवन करना बताया तो परिजन उलझन में पड़ गये कि स्कूल में पढ़ाई की जगह चोरी करने का पाठ पढ़ाया जाता है।

क्या कहते हैं थानेदार

अभिभवकों की शिकायत थी कि उनके बच्चे स्कूल के कुछ सीनियर छात्रों के कहने पर घर में चोरी करते हैं। शिकायत के बाद संत जोसेफ स्कूल जाकर मामले की छानबीन की गई। स्कूल के प्राचार्य फादर पायस से पूछताछ की गई है। फादर को स्कूल के गेट पर सीसीटीवी कैमरा लगाने का निर्देश दिया गया है। इसके अलावा टूटी हुई दीवार बनाने और खुले रहनेवाले कमरों को बंद कर रखने का निर्देश दिया गया है। परिजनों की शिकायत पर जांच की जा रही है।

                                                                                                                           देवव्रत पोद्दार, थाना प्रभारी, नगर थाना

स्कूल प्रबंधन की दलील

दोषी छात्रों पर अनुशासनात्मक और कानूनी कार्रवाई की जाएगी। स्कूल परिसर में इस प्रकार का घिनौना कार्य नहीं होना चाहिए।

                                                                                                                        फादर पायस मरांडी, फादर, संत जोसेफ स्कूल

You May Also Like

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *