गृह वार्ड में योगी और रायबरेली व अमेटी में राहुल हारे

उप्र नगर निकाय चुनाव में कमल खिला मगर उपमुख्यमंत्री मौर्या के गढ़ में भाजपा साफ

लखनऊ। उत्तर प्रदेश निकाय चुनाव में भले ही भाजपा की बड़ी जीत हुई, मगर कई जगहों में चुनाव परिणाम चैंकाने वाले भी रहे। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के गृह वार्ड में ही भाजपा हार गयी। गोरखपुर नगर निगम में भाजपा के 70 प्रत्याशी जीते, लेकिन वार्ड नंबर 68 से निर्दलीय प्रत्याशी नादिरा खातून जीत गईं। इसी वार्ड में मुख्यमंत्री योगी का आवास यानी गोरखनाथ मंदिर है। निर्दलीय नादिरा ने भाजपा प्रत्याशी माया त्रिपाठी को 462 मतों से हरा दिया। जबकि कांग्रेस के गढ़ रहे अमेठी और रायबरेली में कांग्रेस को बुरी तरह हार का सामना करना पड़ा। इसी तरह उपमुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्या के गढ़ कौशांबी में भाजपा का सूपड़ा साफ हो गया है। कौशांबी की 6 नगर पंचायत अध्यक्ष की सीटों पर भाजपा का खाता भी नहीं खुला।

मालूम हो कि वर्ष 2014 और 2017 की तरह इसबार भी उप्र की जनता ने भाजपा पर भरोसा जताया है। लखनऊ सहित 16 नगर निगम, 198 नगर पालिका परिषद और 438 नगर पंचायतों में तीन चरणों में मतदान हुए थे। इधर भाजपा को चुनाव में मिली बड़ी जीत पर योगी आदित्यनाथ ने कहा कि हमारी सरकार ने लोकहित में फैसले किये सो चुनावी नतीजों ने विरोधियों को करारा जवाब दिया है। भाजपा उप्र इकाई के अध्यक्ष महेंद्रनाथ पांडे ने इस जीत पर कहा कि 14 नगरनिगमों पर बीजेपी का कब्जा हुआ है। जीत के लिए उन्होंने जनता का आभार जताया है।

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने गुजरात में विपक्षी दलों के बड़े बोल का हवाला देते हुए कहा कि यूपी चुनाव सबकी आंखें खोलने वाला है। गुजरात पर बढ़कर बोलने वालों का खाता भी नहीं खुला। अमेठी में भी सूपड़ा साफ हुआ है। जबकि भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह ने जीत की बधाई देते हुए कहा है कि जनता ने कांग्रेस का सूपड़ा साफ कर दिया है। अमेठी-रायबरेली ने भी कांग्रेस को नकार दिया है।

जीत पर उत्साहित भाजपाई वैसे कौशांबी में मिली हार पर चुप हैं। उप्र के उपमुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्या के गढ़ कौशांबी में भाजपा को करारी हार मिली है। यहां की 6 नगर पंचायत अध्यक्ष की सीटों में कहीं भी भाजपा का खाता नहीं खुला। सिराथू से ही केशव प्रसाद मौर्य विधायक थे, मगर उनके पैतृक घर यानी सिराथू नगर पंचायत में भी भाजपा को पराजय का मुंह देखना पड़ा। मौर्य के राजनैतिक कॅरियर को उठान कौशांबी की सिराथू विधान सभा सीट ने ही दी थी। पहली बार वे सिराथू से ही विधायक बने। बाद में फूलपुर से सांसद बने। फिर, भाजपा प्रदेश अध्यक्ष बना दिये गये और फिलहाल वे सूबे के उप मुख्यमंत्री हैं।

 

You May Also Like

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *