राजद गाड़ी से आगे की सियासी यात्रा करेंगे शरद?

राज्यसभा सदस्यता जाने के बाद शरद यादव व अली अनवर के साथ दिख रहा राजद

राज्यसभा में जदयू नेता आरसीपी सिंह की याचिका पर बीती शाम पार्टी के बागी सांसद शरद यादव और अली अनवर को राज्यसभा से अयोग्य करार देने के बाद वे अब राजद कैंप में जा सकते हैं। क्योंकि शरद यादव और अली अनवर की राज्यसभा सदस्यता खत्म होने पर जदयू ने जहां तंज कसा है, वहीं राजद शरद के साथ खड़ी दिखी। राजद के मुताबिक शरद का कद इतना बड़ा है कि वह किसी पद के मोहताज नहीं हैं। सिद्धांत और उनकी विचारधारा उनकी पहचान रही है। राजद के प्रवक्ता मृत्यंजुय तिवारी ने राज्यसभा सचिवालय के इस फैसले को दुर्भाग्यपूर्ण बताया। कहा है कि शरद ने जिन लोगों को राजनीति में चलना सिखाया, उन्हीं लोगों ने उनकी सदस्यता समाप्त करायी।

राजद प्रवक्ता ने जदयू अध्यक्ष नीतीश कुमार पर निशाना साधते हुए कहा कि वे इससे पहले जॉर्ज फर्नांडिस के साथ भी ऐसा कर चुके हैं। इधर, जदयू प्रवक्ता नीरज कुमार ने मंगलवार को शरद यादव को नसीहत देते हुए कहा कि अब केवल राजद अध्यक्ष लालू प्रसाद यादव जिंदाबाद कहने से काम नहीं चलेगा, लालू के पुत्र तेजस्वी व तेजप्रताप और उनकी पत्नी राबड़ी देवी का भी गुणगान करना होगा। उन्होंने कहा कि शरद और अली अनवर ने राजनीति में भ्रष्टाचार और परिवारवाद के परिचायक लालू प्रसाद जिंदाबाद का नारा जब लगाया था, तब जदयू ने राज्यसभा सचिवालय में उनकी सदस्यता समाप्त करने के लिए आवेदन दिया था। इस निर्णय से राजनीति में शुचिता का संदेश गया है।

मालूम हो कि शरद यादव और अली अनवर ने बिहार के महागठबंधन टूटने के बाद विपक्ष का साथ दिया था। राज्यसभा में शरद यादव को पिछले साल ही चुना गया था और उनका कार्यकाल वर्ष 2022 तक था। जबकि वर्ष 2018 में अली अनवर का कार्यकाल समाप्त होने वाला था। मंगलवार को शरद यादव ने कहा कि वे लोकतंत्र को बचाने के लिए अपनी लड़ाई जारी रखेंगे। उन्होंने ट्वीट किया है- मुझे राज्यसभा से अयोग्य घोषित किया गया, क्योंकि बिहार में एनडीए को हराने के लिए बनाये गये महागठबंधन को 18 महीने बाद सत्ता में बने रहने के लिए तोड़ दिया गया। अगर इस गैर-लोकतांत्रिक कार्यशैली के खिलाफ बोलना मेरी गलती है तो मैं लोकतंत्र को बचाने के लिए अपनी लड़ाई जारी रखूंगा। उल्ल्ेखनीय है कि शरद यादव लंबे समय से एक राष्ट्रीय स्तर पर समाजवादी दल बनाने की बात करते रहे हैं। वे इस कोशिश को आगे बढ़ायेंगे या राजद में शामिल होंगे, यह वक्त ही बतायेगा।

You May Also Like

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *