अंबेदकरवादी लेखक पर वैश्यों ने फेंके चप्पल व अंडे

वैश्य समुदाय को सामाजिक तस्कर बताने पर कांचा इलैया से क्रोधित लोगों ने किया प्रदर्शन

वैश्य समुदाय के कुछ लोगों ने अंबेदकरवादी लेखक और दलित चिंतक कांचा इलैया पर एक बार फिर गुस्सा निकाला है। उनपर चप्पल और अंडों से हमला किया गया। घटना तेलंगाना के जगतियाल जिले में कोर्ट के बाहर हुई। यहां कांचा इलैया के विरोध में प्रदर्शन हो रहा था। प्रदर्शनकारियों ने कांचा इलैया पर चप्पल से हमला किया और अंडे भी फेंके। इस मामले में कांचा इलैया ने कहा है कि उनपर वैश्यों ने हमला किया है। उन्होंने वैश्यों को आर्य बताया।

कांचा पर हमले की यह घटना तब हुई जब वे कोरूतला कोर्ट से बाहर निकलकर अपनी कार में बैठने जा रहे थे। हालांकि मौजूद पुलिस कर्मियों ने किसी तरह उन्हें वहां से सुरक्षित निकाला। मालूम हो कि कांचा इलैया की पुस्तक ‘सामाजिका स्मगलेर्लु कोमाटोलु’ का विरोध हो रहा है। इस किताब में वैश्य समुदाय के सदस्यों को उन्होंने सामाजिक तस्कर बताया है। इस पुस्तक का आंध्र प्रदेश और तेलंगाना जैसे दो तेलगु प्रभावी राज्यों में व्यापक विरोध हो रहा है।

इधर कांचा इलैया ने बताया कि आर्य वैश्य समुदाय के लोगों ने उनपर हमला किया है। हमलावरों ने उनसे कहा कि या तो वंदे मातरम बोलो या देश से बाहर जाओ। इससे पहले सितंबर में भी उनपर हमला हुआ था। वारंगल जिले में वैश्य समुदाय के लोगों ने लेखक को निशाने पर लेकर उन पर चप्पल फेंकी थी। कांचा इलैया यहां एक कार्यक्रम में भाग लेने आये थे। प्रदर्शनकारियों को उनके आने की जानकारी मिली तो उन्होंने वहां पहुंचकर नारेबाजी की थी। उस समय प्रदर्शनकारियों के हमले से बचने के लिए कांचा इलैया ने पुलिस स्टेशन में शरण ली थी।

You May Also Like

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *