आईएएस अधिकारी बन 13 लाख रुपये ठगने वाला गिरफ्तार

खुद महज मैट्रिक पास है निर्मल, अन्य जिलों में भी अधिकारियों से की है ठगी

दुमका/संवाददाता। भारतीय प्रशासनिक सेवा के पदाधिकारी बनकर पदाधिकारियों से ठगी करने वाला आरोपी निर्मल कुमार साह को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है। जरमंुडी एसडीपीओ अनिमेष नैथानी के नेतृत्व बने टीम ने निर्मल कुमार साह को देवढांड के समीप गिरफ्तार किया है। पहली जांच के दौरान पुलिस को अभी तक करीब 13 लाख रुपए की ठगी करने का मामला सामने आया है। निर्मल के पास से पुलिस ने ठगी में प्रयुक्त दो मोबाईल, दो सिम कार्ड, विभिन्न बैंक का पासबुक जिसमें 2.50 लाख रुपए ट्रांसफर किया गया है। एसपी ने बताया कि निर्मल ने दुमका, गोड्डा, साहेबगंज और राज्य के अन्य जिलों के अधिकारियों का मोटी रकम ठगी की है।

निर्मल मूलरूप से पाकुड़ जिले के पाकुड़िया थाना क्षेत्र के कारीपहाड़ी का रहने वाला है। निर्मल मैट्रिक पास है। पुलिस अधीक्षक वाईएस रमेश ने शनिवार को बताया कि निर्मल सभी प्रकार के सरकारी पदाधिकारी, कर्मचारी और प्रखंड स्तर तक के अधिकारियों को डरा धमका कर रुपयों की ठगी करता था। उन्होंने बताया कि निर्मल केंद्र सरकार के सचिव बनकर पदोन्नति, स्थानांतरण और नौकरी से हटाने की धमकी देकर रुपए का डिमांड करता था। ठगी के रुपए वह अपने और रिश्तेदारों के बैंक पासबुक में मंगाता था। उन्होंने बताया कि निर्मल के बैंक पासबुक के अलावा उसके सभी रिश्तेदारों के पासबुक को भी खंगाला जा रहा है।

एसपी ने बताया कि निर्मल के परिजन ठगी करने में उसकी सहायता करते थे। एसपी ने बताया कि जिले के मसलिया प्रखंड के प्रखंड आपूर्ति पदाधिकारी रामेश्वर झा को निर्मल ने नौकरी से हटाने की धमकी देकर अभी तक 2.50 लाख की ठगी कर चुका था। निर्मल ने स्वयं को राज्य सरकार का सचिव बताकर एमओ से फोन पर बात किया था। एमओ ने 2.50 लाख की राशि उसके बैंक खाता में भेज तो दी पर बाद में उसे शंका हुई। उसने मामले की तहकीकात अपने स्तर से की और मसलिया थाना में 29 दिसंबर 2018 को धारा 420, 471, 384 भादवि एवं 66 (ए), 66(डी) आईटी एक्ट के तहत प्राथमिकी दर्ज कराया था।

You May Also Like

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *