एके-47 व इंसास रायफल की 566 गोलियां बरामद

माओवादियों के खिलाफ पुलिस व सशस्त्र सीमा बल को मिली बड़ी कामयाबी/ ज्वाइंट ऑपरेशन में गिरफ्तार किये गये 4 कुख्यात नक्सली / जिले के काठीकुंड थाना क्षेत्र से हुई चारों गिरफ्तारी/ दो नक्सलियों को फांसी की सजा के खिलाफ थी बड़ी वारदात की तैयारी

दुमका/ संवाददाता। जिला पुलिस और सशस्त्र सीमा बल के ज्वाइंट ऑपरेशन में पुलिस को दुमका में अबतक की सबसे बड़ी कामयाबी मिली है। पुलिस ने जिले के काठीकुंड थाना क्षेत्र के सालदहा गांव से चार सक्रिय नक्सलियों बाबूजन हेम्ब्रम, नेलसन हेम्ब्रम, गोबिन्द हेम्ब्रम और बाबूराम टुडू को गिरफ्तार किया। साथ ही एके-47 और इंसास रायफल के 566 चक्र जिंदा कारतूस बरामद किया है। माना जा रहा है कि प्रवीर दा और सनातन बास्की को फांसी का सजा के खिलाफ नक्सली किसी बड़ी वारदात को अंजाम देने की तैयारी में थे। गिरफ्तार बाबूजन व नेलसन काठीकुंड थाना क्षेत्र के सालदहा गांव का निवासी है, जबकि गोविंद व बाबूराम कुसूम्बा का रहने वाला है। एसपी किशोर कौशल ने मंगलवार को बताया कि भाकपा (माओवादी) संगठन के घोषित दमन विरोधी सप्ताह की अपील के मद्देनजर उग्रवादियों के विरूद्ध संयुक्त छापेमारी व एलआरपी जारी है।

इलेट्रिक डेटोनेटर, जिलेटिन आदि भी बरामद

एसपी ने बताया कि 19 नवंबर को पुलिस को गुप्त सूचना मिली कि काठीकंुड थाना क्षेत्र के सालदहा गांव में कुछ अत्याधुनिक विस्फोटक और गोलियां सफ्लाई की जानी है। सूचना पर पुलिस की टीम ने गांव पहुंच कर बाबूजन के घर की तलाशी ली। वहां नक्सलियों की मौजूदगी का प्रमाण मिला। पुलिस और एसएसबी टीम ने सालदहा के आसपास के गांवों की घेराबंदी कर छापेमारी शुरू की। गिरफ्तार उग्रवादियों के पास से गोली, इलेट्रिक डेटोनेटर, जिलेटिन व अन्य समान बरामद हुआ। टीम में जिला पुलिस के एसपी (अभियान) आरसी मिश्रा, काठीकंुड थाना प्रभारी रंजीत मिंज, एसएसबी के उप कमांडेंट ललित साह, सहायक कमांडेंट नरपत सिंह, सहायक कमांडेंट गुलशन कुमार, एएसआई प्रदीप बाखला, पुलिस बल और एसएसबी के जवान शामिल थे।

नक्सलियों की मदद करने वाले नहीं बचेंगे

चार नक्सलियों की गिरफ्तारी के बाद पुलिस अब उन सफेदपोशों पर कार्रवाई करेगी जो नक्सलियों को मदद पहुंचाते हैं। एसपी किशोर कौशल ने बताया कि गिरफ्तार नक्सलियों से पूछताछ में कई सफेदपोश लोगों का नाम सामने आया है जो उनकी दवा, खाना, जूता-चप्पल व अन्य जरूरी सामान पहुंचाने से लेकर बीमार और घायल नक्सलियों का इलाज तक में मदद करते थे। नक्सलियों की मदद करने वाले बख्शे नहीं जाएंगे।

नक्सली वारदातों में पुलिस को थी तलाश

गिरफ्तार चारों नक्सलियों का पुराना इतिहास है। इनपर काठीकुंड थाना क्षेत्र के गंधर्व में सड़क निर्माण में लगी 5 जेसीबी मशीनों में आग लगाने का आरोप है। 2 जुलाई 2013 को नक्सलियों ने इस घटना को अंजाम दिया था। काठीकंुड थाना में कांड संख्या 55/13 के तहत धारा 147, 148, 149, 326, 307, 302, 427, 379 भादवि 27 आर्म्स एक्ट व 17 सीएलए एक्ट दर्ज किया गया था। दूसरी घटना में गोपीकांदर थाना क्षेत्र में 6 सितंबर 2017 को बोड़ाहपाड़ी गांव में सड़क निर्माण में लगी 5 जेसीबी मशीनों पर आग लगा दी गयी। दो स्थानों में आग लगायी गयी थी। सहाडों गांव में तीन जेसीबी और बोड़ाहपाड़ी में दो जेसीबी में नक्सलियों ने आग लगायी थी। गोपीकांदर थाना में कांड संख्या 47/17 के तहत धारा 147, 148, 149, 436, 354, 427 भादवि 10/13 यूएपी एक्ट और 17 सीएलए एक्ट दर्ज किया गया था।

एक जेब में लेवी रसीद, दूसरी में कंडोम

गिरफ्तार नक्सलियों के पास से बरामद सामानों से पता चलता है कि नक्सली अपनी विचारधारा से भटक चुके हैं। माओवाद से संबंधित साहित्य के साथ वह सबकुछ उनके पास है जो अपराधियों के पास होता है। नक्सलियों का काम केवल ठेकेदारों, उद्योगपतियों और पूंजिपतियों से लेवी वसूलना और गांव की महिलाओं के साथ सेक्स करना रहा गया है। गिरफ्तार चारों नक्सलियों के पास से पुलिस ने लेवी वसूली के लिए पिं्रट किया हुआ रसीद और एक-एक पैकेट निरोध बरामद किया है। इसके अलावा एक लैपटॉप और हरी वद्री भी बरामद की गयी है। गिरफ्तार चारों नक्सलियों के पास से कंडोम का पैकेट बरामद किया गया है।

You May Also Like

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *