एक लाख युवाओं को निजी क्षेत्र में मिला रोजगार: रघुवर दास

मुख्यमंत्री रघुवर दास ने कहा कि कौशल विकास के क्षेत्र में देश और दुनिया में झारखंड इतिहास रच रहा

रांची/ विशद कुमार। रांची के खेलगांव में 10 जनवरी को आयोजित ग्लोबल स्किल समिट 2019 को संबोधित करते हुए राज्यपाल श्रीमती द्रौपदी मुर्मू ने कहा कि आज ग्लोबल स्किल समिट 2019 का आयोजन एक व्यापक उद्देश्य के साथ किया जा रहा है। झारखण्ड राज्य के हमारे युवा अत्यन्त ही मेधावी है। वे परिश्रमी हैं तथा विपरीत एवं विषम हालात में भी अच्छा करने की क्षमता रखते हैं। इसका पूरा देश साक्षी है। उन्होंने कहा कि यहाँ के लोगों ने विभिन्न क्षेत्रों में अपनी प्रतिभा से राज्य ही नहीं पूरे राष्ट्र को गौरवान्वित किया है। मेधा के क्षेत्र में लड़के एवं लडकियों में भेद नहीं किया जा सकता है। श्रीमती द्रौपदी मुर्मू ने कहा कि हमें लोगों को कौशल विकास के माध्यम से प्रशिक्षण सुलभ कराकर रोजगार सुलभ कराने की ओर सोचना होगा। साथ ही यह भी कहना चाहूँगी कि हमारे युवाओं को भी सम्मानजनक राशि मिले।

अवसर पर मुख्यमंत्री रघुवर दास ने कहा कि कौशल विकास के क्षेत्र में देश और दुनिया में झारखंड इतिहास रच रहा है। राज्य सरकार द्वारा झारखंड ग्लोबल स्किल समिट 2019 आयोजित कर एक मंच से राज्य के एक लाख से अधिक बेरोजगार युवक-युवतियों को नियुक्ति पत्र मिलना विकास के पथ पर अग्रसर झारखंड का एक बहुत ही बड़ा उदाहरण है। मुख्यमंत्री ने कहा कि राज्य को विकसित राष्ट्र की श्रेणी में ले जाकर खड़ा करना है। उन्होंने कहा कि भारत के प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी का सपना है कि हर हाथ में हुनर हो और हर हाथ को रोजगार मिले। इस सपना को पूरा करने के लिए देश में पहली बार अलग से कौशल विकास मंत्रालय का गठन किया गया। प्रधानमंत्री की इस सोच को झारखंड सरकार आगे बढ़ाने का काम कर रही है।

झारखण्ड में पिछले 4 साल में तीन वैश्विक सम्मेलन

मुख्यमंत्री ने कहा कि झारखंड में पिछले 4 साल में तीन वैश्विक सम्मेलन का आयोजन किया गया है। पहला वैश्विक सम्मेलन मोमेंटम झारखंड के रूप में 2017 में किया गया था। इस सम्मेलन के तहत राज्य में बहुत सारे नए निवेशकों ने निवेश करना प्रारंभ किया है। आज झारखंड गारमेंट्स इंडस्ट्री में भी आगे बढ़ रहा है। गारमेंट इंडस्ट्रीज में बड़ी संख्या में राज्य के युवाओं को नौकरी मिल रही है। राज्य में दूसरा वैश्विक सम्मेलन ग्लोबल एग्रीकल्चर फूड समिट 2018 का आयोजन कुछ दिन पहले आयोजित किया गया था। इस आयोजन में राज्य सहित देश और विदेश से कृषि से संबंधित विशेषज्ञ, कृषि वैज्ञानिक एवं उन्नत किसान बड़ी संख्या में सम्मिलित हुए थे। रोजगार के क्षेत्र में भी यह समिट सकारात्मक रहा है। वहीं तीसरा वैश्विक सम्मेलन आज ग्लोबल स्किल समिट 2019 आयोजित हुआ है। स्किल समिट 2019 के माध्यम से राज्य के 1 लाख से अधिक युवक-युवतियों को निजी क्षेत्र में नियुक्ति मिली है।

प्रधानमंत्री युवाओं के सर्वांगीण विकास के लिए कौशल विकास कार्यक्रम

मुख्यमंत्री ने कहा कि केंद्र सरकार की सभी जन कल्याणकारी योजनाओं को राज्य सरकार प्रतिबद्धता के साथ संचालित कर रही है। आजादी के 70 वर्ष बीत जाने के बाद भी देश की युवा शक्ति के सर्वांगीण विकास की चिंता किसी ने नहीं की, परंतु जिस दिन से देश में नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में सरकार का गठन हुआ उसी दिन से प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने युवाओं के सर्वांगीण विकास के लिए कौशल विकास कार्यक्रम पूरे देश में मिशन मोड में चलाया। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का मानना था कि देश तभी विकसित होगा जब सभी युवाओं के हाथ में हुनर होगा और रोजगार होगा। प्रधानमंत्री के इस सोच को केंद्रीय पेट्रोलियम, प्राकृतिक गैस एवं कौशल विकास मंत्री श्री धर्मेंद्र प्रधान के नेतृत्व में एक नई ऊंचाई मिली है। आज स्किल सम्मिट 2019 के इस आयोजन से यह सिद्ध हुआ है कि देश के नौजवानों को रोजगार और स्वरोजगार तीव्र गति से उपलब्ध कराया जा रहा है।

भारत की 65% आबादी युवा है

मुख्यमंत्री रघुवर दास ने कहा कि देश और राज्य के युवा शक्ति में काफी क्षमता है। भारत की 65% आबादी युवा है। पूरी दुनिया में भारत मात्र एक ऐसा देश है जहां की आबादी का 65% लोग  20 से 35 वर्ष के हैं। हमारे राज्य एवं देश के मानव संसाधन यूरोप, अमेरिका, जापान इत्यादि जैसे देशों में भी अपनी हुनर से रोजगार पाकर देश और दुनिया में अपना और राज्य का नाम रोशन कर सकेंगे।

कोई भी काम छोटा या बड़ा नहीं होता

मुख्यमंत्री ने नियुक्ति पत्र मिलने वाले युवाओं से अपील की कि कोई भी काम छोटा या बड़ा नहीं होता है। जो भी नौकरी मिले उसे मन लगाकर करें। संकल्प से ही सिद्धि मिलती है। देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भी संकल्प लेकर काम करना शुरू किया है यही कारण है कि आज हमारा देश पूरे विश्व में अपना अमिट पहचान बनाने में सफल रहा है। मुख्यमंत्री श्री दास ने कहा कि झारखंड राज्य के बच्चे बहुत ही परिश्रमी और अनुशासित हैं। जब राज्य के बच्चों की तारीफ औद्योगिक क्षेत्र के लोग अथवा देश विदेश के अन्य संस्थानों के नामचीन लोग करते हैं तो गर्व से सीना चौड़ा हो जाता है। श्री दास ने कहा कि जीवन में उतार-चढ़ाव निरंतर बना रहता है। इस उतार-चढ़ाव के दौर में हिम्मत नहीं हारना है। जीवन का अनुभव बहुत कुछ सिखाता है। मैं भी एक मजदूर परिवार से आया हूं। जीवन में मैंने भी बहुत सारे उतार-चढ़ाव देखे हैं। आप सबों का आशीर्वाद और प्यार के बदौलत आज एक मजदूर परिवार का व्यक्ति आपका मुख्य सेवक के रूप में कार्य कर रहा है। मैंने भी टाटा स्टील में नौकरी की थी और वहीं से मुझे यह पता चला कि वर्तमान समय में कौशल विकास का होना कितना महत्वपूर्ण है। उन्होंने कहा कि सरकार गठन के बाद से ही राज्य में कौशल विकास प्रशिक्षण के कई केंद्र खोले गए। सुदूर ग्रामीण इलाकों में कम पढ़े लिखे गरीब युवक युवतियों को भी स्किल्ड करना सरकार की प्राथमिकता रही है। गुरुकुल कौशल विकास केंद्र के माध्यम से बच्चों को हुनरमंद बनाया गया है। जितनी तेजी से युवा वर्ग स्किल्ड हो रहे हैं उतने ही तेजी से राज्य सरकार द्वारा औद्योगिक इकाइयों एवं अन्य संस्थाओं के साथ आपसी समन्वय स्थापित कर रोजगार भी उपलब्ध कराया जा रहा है। निजी क्षेत्रों में भी राज्य में रोजगार की असीम संभावनाएं हैं। मुख्यमंत्री ने अपने संबोधन में कहा कि श्री महेंद्र सिंह धोनी ने पूरे विश्व में झारखंड और भारत का नाम रोशन किया है। उनका अनुसरण युवा वर्ग को करना चाहिए। चाहे कोई भी क्षेत्र हो, मेहनत और लगन अगर इमानदारी से करेंगे तो ऊंचाइयों के बुलंदी को अवश्य छू लेंगे।

गरीबी की कोई जाति नहीं होती

अवसर पर केंद्रीय मंत्री श्री धर्मेंद्र प्रधान ने कहा कि कल देश में एक नए अध्याय का सूत्रपात हुआ है। संविधान बनाने वाले महापुरुषों ने समाज के वंचित तबके के लिए आरक्षण की व्यवस्था की थी। सामाजिक पिछड़ेपन एवं शिक्षा के अभाव के कारण जाति आधारित आरक्षण की व्यवस्था संविधान में की गई थी। आजादी के 70 दशक के बाद देश में अभूतपूर्व बदलाव हुआ है। उन्होंने कहा कि गरीबी की कोई जाति नहीं होती। गरीबी अभिशाप है और गरीबी के आधार पर आरक्षण की व्यवस्था सरकार ने की है। इसके लिए 124 वें संविधान संशोधन करके 10% आरक्षण भारत के गरीबों के लिए सुनिश्चित किया जाएगा।

ऐसे आयोजन देश के अन्य भागों में भी हों

धर्मेंद्र प्रधान ने कहा कि आजादी के बाद के दशकों में यह पहला अवसर है जहां पर एक ही समय पर एक लाख नवयुवकों को नियुक्ति पत्र एक ही प्रांगण में दिए जा रहे हैं।धर्मेंद्र प्रधान ने कहा कि कई देशों के राजदूत एवं उद्यमी भी इस ऐतिहासिक पल के गवाह बने हैं।

10000 परिवारों में आएगी खुशहाली

केंद्रीय मंत्री ने कहा कि 2020 में दुबई में एक आयोजन कर के 50,000 नए वाहन चालक को नियोजित किया जाएगा। राज्य में ड्राइविंग इंस्टीट्यूट स्थापित करके 10,000 नौजवानों को प्रशिक्षण प्रदान कर दुबई में नियोजन हेतु राज्य सरकार प्रयासरत है, जिससे कि 10000 परिवारों में आर्थिक संपन्नता आएगी।

देश की उन्नति का आधार हैं झारखंड के खनिज

केंद्रीय मंत्री ने कहा कि झारखंड की खनिज संपदा से देश के कई राज्यों की अर्थव्यवस्थाओं को संवेग और कल कारखानों को गति प्राप्त हो रही है। झारखंड में कृषि, उद्योग, खनन, संस्कृति, विनिर्माण, निर्माण, पर्यटन, सेवा क्षेत्र, उद्योग का अद्भुत मणिकांचन संयोग है। यहां पर प्रकृति प्रदत्त खनिज और नैसर्गिक सौंदर्य के साथ साथ कुशाग्र मेहनतकश और अनुशासित मानव बल भी है।

पिछले 4 साल में झारखंड को मिली नई पहचान

कार्यक्रम को संबोधित करते हुए राज्य के मुख्य सचिव सुधीर त्रिपाठी ने कहा कि सरकार और संबद्ध संस्थानों से मिलकर युवा शक्ति को हुनर के साथ जोड़कर इनके जीवन में रंग भरा जा रहा है। झारखण्ड की इस नई पहचान का सूत्रपात चार साल पहले ही कौशल विकास के लिए नये मंत्रालय एवं स्किल डेवलपमेंट सोसाइटी के संचालन के साथ हुआ। उन्होंने कहा कि यह हमारे लिए संतोष और गर्व का द्योतक है कि उत्तरोत्तर प्रगति करते हुये आज हम उस स्थिति में हैं कि एक दिन में 1 लाख युवाओं को रोजगार देने का कीर्तिमान रच रहे हैं।

राज्य के 6 नए स्किल डेवलपमेंट सेंटरों का ऑनलाइन उद्घाटन

इस अवसर पर मुख्यमंत्री श्री रघुवर दास ने राज्य के 6 नए स्किल डेवलपमेंट सेंटरों का ऑनलाइन उद्घाटन भी किया। मुख्यमंत्री द्वारा सांकेतिक रूप से 10 युवक-युवतियों को निजी क्षेत्र में नियुक्ति पत्र भी दिया गया। अवसर पर शिक्षा मंत्री श्रीमती नीरा यादव ने प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी का संदेश पढ़कर सुनाया।

ग्लोबल स्किल समिट के दौरान टीम समझौता ज्ञापन पर भी हस्ताक्षर किए गए

इस अवसर पर केंद्रीय जनजातीय मामले कार्य राज्य मंत्री सुदर्शन भगत, कल्याण मंत्री डॉ लुईस मरांडी, पर्यटन खेलकूद युवा कार्य मामले मंत्री अमर कुमार बाउरी, श्रम एवं कौशल विकास मंत्री  राज पालीवार, स्वास्थ्य मंत्री रामचंद्र चंद्रवंशी, पद्मश्री अशोक भगत, विकास आयुक्त श्री डीके तिवारी, राज्य के सभी अपर मुख्य सचिव, प्रधान सचिव, सचिव, भारतीय क्रिकेट टीम के पूर्व क्रिकेटर चेतन शर्मा, प्रसिद्ध क्रिकेट कमेंटेटर चारू शर्मा, प्रसिद्ध फिल्म अभिनेत्री श्रीमती महिमा चौधरी, राज्य सरकार के तमाम आला अधिकारी, 17 देशों से आए राजदूत, उद्योगपति, कई महत्वपूर्ण संस्थानों के प्रतिनिधि सहित बड़ी संख्या में नियुक्ति पत्र ग्रहण करने वाले युवक—युवतियां उपस्थित थीं।

You May Also Like

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *