कांग्रेस ने संस्थानों को बर्बाद किया : मोदी

प्रधानमंत्री ने लोकसभा में राष्ट्रपति के अभिभाषण पर धन्यवाद प्रस्ताव पर हुई चर्चा का दिया जवाब/पहले की तुलना में प्रत्यक्ष विदेशी निवेश (एफडीआई) का प्रवाह बढ़ा/ विनिर्माण क्षेत्र में देश ने नये कीर्तिमान स्थापित किये/कांग्रेस ने देश में लगाया था आपातकाल

नयी दिल्ली। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने संवैधानिक संस्थानों पर हमला करने के कांग्रेस के आरोपों पर तीखा पलटवार करते हुये गुरुवार को कहा कि आपातकाल लगाने, चुनी हुई सरकारों को हटाने, चुनाव आयोग पर सवाल उठाने तथा सेना पर झूठे आरोप लगाने का अपराध कर कांग्रेस ने देश के संस्थानों को बर्बाद किया है।
मोदी ने गुरुवार को लोकसभा में राष्ट्रपति के अभिभाषण पर धन्यवाद प्रस्ताव पर हुई चर्चा का जवाब देते हुये कहा कि कांग्रेस अक्सर उनकी सरकार पर संस्थानों को बर्बाद करने का आरोप लगाती है, लेकिन वह भूल जाती है कि देश में आपातकाल लगाने, सेना पर तख्ता पलट करने का आरोप लगाने, सेना प्रमुख के लिए अपशब्द का इस्तेमाल करने, चुनाव आयोग तथा योजना आयोग पर सवाल उठाने और चुनी हुई सरकारों को हटाने के लिए अनुच्छेद 356 का बार-बार इस्तेमाल करने का पाप कर देश के संवैधानिक संस्थानों को तबाह करने का काम किया है।

कांग्रेस ने कभी चुनी हुई सरकारों का सम्मान नहीं किया

उन्होंने कहा कि कांग्रेस ने कभी चुनी हुई सरकारों का सम्मान नहीं किया है और उसके नेतृत्व वाली पिछली केंद्र सरकारों ने सौ बार अनुच्छेद 356 का इस्तेमाल कर चुनी हुई सरकारों को हटाने का काम किया है। पूर्व प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी ने ही अकेले 50 बार इस अनुच्छेद का इस्तेमाल किया है। उन्होंने कहा कि कांग्रेस के एक पूर्व प्रधानमंत्री ने योजना आयोग को जोकरों का समूह कहा था।

कांग्रेस ने सेना पर तख्ता पलट करने की झूठी कहानी गढ़ी थी

प्रधानमंत्री ने कहा कि कांग्रेस के लोगों ने अपनी ही सरकार के समय सेना पर तख्ता पलट करने की झूठी कहानी गढ़ी थी और सेना को अपमानित करने का पाप किया था। कांग्रेस के नेताओं ने ही सेना प्रमुख के लिए ‘गुंडा’ शब्द का इस्तेमाल किया। कांग्रेस की स्थिति यह है कि जब उसे देश के बजट पर चर्चा करनी चाहिए थी तो वह ईवीएम को लेकर चुनाव आयोग को कटघरे में खड़ा कर रही है। चुनाव प्रक्रिया को संचालित करने वाले हमारे प्रतिष्ठित संस्थान की छवि धूमिल करने का प्रयास किया जा रहा है।
संस्थाओं को बर्बाद करने के कांग्रेस के आरोप को उन्होंने ‘उल्टा चोर चौकीदार को डांटे’ वाली कहावत करार दिया और सवाल किया कि कांग्रेस को लोकतंत्र में भरोसा होता तो उसके नेता लंदन में जाकर प्रेस कांफ्रेंस नहीं करते और देश की इज्जत को धूमिल नहीं करते।

सड़कों का जाल बिछाया गया

अपनी सरकार की उपलब्धियों का जिक्र करते हुए उन्होंने कहा कि पिछले साढ़े चार साल के दौरान दुनिया में देश की अर्थव्यवस्था 11वें स्थान से छठे स्थान पर आयी है। पहले की तुलना में प्रत्यक्ष विदेशी निवेश (एफडीआई) का प्रवाह देश में बढ़ा है। विनिर्माण क्षेत्र में देश ने नये कीर्तिमान स्थापित किए हैं। नागरिक उड्डयन क्षेत्र में देश तेजी से आगे बढ़ रहा है। सड़कों का जाल बिछाया गया है।
मोबाइल निर्माण के क्षेत्र में भारत दुनिया का दूसरा सबसे बड़ा देश
उन्होंने कहा कि मोबाइल निर्माण के क्षेत्र में भारत दुनिया का दूसरा सबसे बड़ा देश बना है। ऑटोमोबाइल क्षेत्र में भारत दुनिया का चौथा सबसे बड़ा देश है। सबसे सस्ता डेटा देश की जनता को उपलब्ध कराया गया है और भारत आज दुनिया में डेटा इस्तेमाल करने वाला सबसे बड़ा देश बन गया है।

आशा का संचार

मोदी ने कहा कि उनकी सरकार चुनौतियों को स्वीकार करने पर भरोसा करती है। वह देश को भ्रष्टाचार मुक्त और पारदर्शी शासन व्यवस्था दे रहे हैं जिसमें नये भारत का निर्माण हो रहा है। उनकी सरकार ने जो चुनौतियां स्वीकार की उनसे आशा का संचार हुआ है और जहां आशा होती है वहीं सफलता आती है।

मोदी ने विपक्षी एकता को बताया ‘महामिलावट’

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने विपक्षी दलों के एकजुट होे कर महागठबंधन बनाने के प्रयासों पर तीखा प्रहार करते हुये उसे ‘महामिलावट’ करार दिया है और कहा है कि देश इसे कतई स्वीकार नहीं करेगा।

‘हैल्थ’ के प्रति लोग सजग, ‘मिलावट’ को कैसे स्वीकार सकते हैं

मोदी ने गुरुवार को लोकसभा में राष्ट्रपति के अभिभाषण के धन्यवाद प्रस्ताव पर हुयी चर्चा का उत्तर देते हुये कहा कि चाहे विपक्षी दल कोलकाता में एकत्र हों या कहीं और, ‘महामिलावट’ देश की सत्ता में पहुंचने वाला नहीं है। गठबंधन सरकारों की ओर इशारा करते हुए उन्होंने कहा कि देश 30 वर्ष तक महामिलावट की स्थिति देख चुका है और लोग समझ चुके हैं कि मिलावट वाली सरकार किस तरह काम करती हैं और बहुमत की सरकार कैसे काम करती हैं। उन्होंने कहा कि देश में लोग ‘हैल्थ’ के प्रति बेहद सजग हैं इसलिए वे ‘मिलावट’ को कैसे स्वीकार कर सकते हैं।

You May Also Like

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *