गोलीबारी में माफिज की मौत, अनवर हुआ घायल

मधुपुर में मामूली विवाद में दो लोगों पर अपराधियों ने चलाई गोली/नैयाडीह कलवर्ट के समीप दिनदहाड़े बाइक सवार ने दिया घटना को अंजाम

मधुपुर/संवाददाता। मधुपुर थाना क्षेत्र की धमनी पंचायत के नैयाडीह गांव निवासी 40 वर्षीय मो मोफिज आलम की दो बाईक सवार अपराधियों ने दिनदहाड़े मामूली विवाद में पिस्टल से पेट में गोली दाग कर हत्या कर दी। जबकि उनके रिश्तेदार 50 वर्षीय मो अनवर को जांघ में गोली लगने से वे जख्मी हो गये। माफिज आलम को पेट में गोली लगने के बाद तत्काल देवघर के कुंडा स्थित नर्सिंग होम ले जाया गया, जहां चिकित्सकों ने मृत घोषित कर दिया। इधर घायल मो. अनवर का इलाज निजी नर्सिंग होम में चल रहा है। वे खतरे से बाहर हैं। सूचना पर एसडीपीओ अरविंद उपाध्याय, इंस्पेक्टर इंचार्ज सत्येंद्र प्रसाद पुलिस बल के साथ स्थल का जायजा लिया। इधर मोफिज की मौत की सूचना पर गांव में मातम है। परिजनों का रो-रोकर बुरा हाल है। बताया जाता है कि डालमिया कूप, नीम पेड़ के समीप मोफिज की दुकान थी। पुलिस पूरे मामले की गहन पड़ताल में लगी है।

घायल ने हमले की बतायी पूरी कहानी

घटना के बाबत घायल मो अनवर ने बताया कि गुरुवार की दोपहर गांव में ही सड़क के कलवर्ट पर कई सड़क हादसे हो चुके हैं। इसलिए मो मोफिज लोगों से बाईक या अन्य वाहन धीरे चलाने का आग्रह कर रहे थे। इसी बीच नोनिया की तरफ से एक बाईक सवार युवक तेज रफ्तार से जा रहा था, जिसे रोक कर धीरे चलाने का आग्रह करने पर दोनों तरफ से बकझक होने लगी। इसी बीच बाइक सवार युवक ने पिस्टल निकाल कर मो मोफिज के पेट में सटा कर दो गोली दाग दी। जब अनवर उन्हेंे संभालने लगे तो उनकी जांघ में भी एक गोली लग गयी। घटना को अंजाम देने के बाद वे लोग धमनी की ओर भाग गये। गोली चलने की सूचना पर पूरे गांव में सनसनी है। सैकड़ों की संख्या में लोग जुटने लगे। ग्रामीणों व परिजनों की सहायता से उन्हें मधुपुर लाया गया। फिर एम्बुलेंस से कुंडा नर्सिंग होम लाया गया जहां चिकित्सकों ने मोफिज को मृत घोषित कर दिया।

क्या कहते है एसडीपीओ

एसडीपीओ अरविंद उपाध्याय ने बताया कि घटना में शामिल अपराधियों की पहचान की कोशिश जारी है। मृतक का पोस्टमार्टम रिपोर्ट आने के बाद कार्रवाई की जायेगी। मछुआटांड़ पुलिया के पास एसबीआई ग्राहक सेवा केंद्र के संचालक के साथ हुई छिनतई में शामिल काले रंगा की बाईक थी। इस वारदात में भी अपराधी काले रंग की बाईक से ही आये थे। दोनों घटना में करीब आधे घंटे का फासला है। हो सकता है छिनतई वाले वारदात को अंजाम देने के बाद भागने के दौरान अपराधी ने ही यहां घटना को अंजाम दिया हो। दोनों घटना की गहन पड़ताल पुलिस कर ही है।

You May Also Like

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *