जामताड़ा में रिटायर्ड कर्मचारी को जिंदा जलाया!

पुलिस कर रही है मामले की सभी पहलुओं पर पड़ताल/संदिग्ध मौत पर है इलाके में तरह-तरह की चर्चा/ संपत्ति विवाद में जिंदा आग के हवाले करने की जतायी जा रही है आशंका

जामताड़ा/ संवाददाता। जिला मुख्यालय स्थित सर्खेलडीह मोहल्ले में बीती रात एक रिटायर्ड कर्मचारी 78 वर्षीय विंदेश्वरी प्रसाद सिंह को जिंदा लगाकर मार डालने का मामला सामने आया है। हालांकि जलने से हुई हुई उनकी मौत को संदिग्ध ही माना जा रहा है। कुछ लोग मौत का कारण हत्या तो कुछ लोग हादसा बता रहे हैं। फिलहाल, पुलिस सभी पहलुओं पर पड़ताल कर रही है। घटना के बारे में बताया जाता है कि शुक्रवार की सुबह उनकी लाश उनके कमरे में मिली। वे रात को खाना खाकर अपने कमरे में सोये थे। सुबह उनके कमरे से धुआं निकलने पर अफरा-तफरी मच गई। जब तक आग पर काबू पाया गया तब तक उनकी मौत हो चुकी थी।

संपत्ति विवाद भी बन रहा हादसे का एक कोण

बताते हैं कि विंदेश्वरी प्रसाद सिंह के पुत्र व पुत्री के बीच संपत्ति को लेकर विवाद चल रहा था। आशंका जताई जा रही है कि संपत्ति विवाद में उन्हें जिंदा आग के हवाले कर दिया गया है। हालांकि पुलिस सूत्रों को आशंका है कि ठंड से वृद्ध की मौत हो गई होगी और किसी ने उन्हें जलाकर अपने संबंधियों को फंसाने की कोशिश की होगी। पुलिस इस बिंदु पर भी काम कर रही है कि कहीं किसी बर्तन (बोरसी) में आग जलाकर रात में बुजुर्ग को ठंड के कारण दिया गया होगा। अलाव से जलकर भी बुजुर्ग की जान जा सकती है।

मृतक थे बलिया जिला के निवासी

मृतक विंदेश्वरी प्रसाद सिंह उत्तर प्रदेश के बलिया जिले के निवासी थे। उनके एक पुत्र उत्तर प्रदेश में ही रहते हैं। जबकि उनकी पुत्री करमाटांड़ में सिंह मेडिकल की बहू हैं। पुलिस ने बताया कि जिंदा जलने की सूचना पर वो पहुंची है। परिजनों के लिखित बयान पर मामला दर्ज कर कार्रवाई की जा रही है। पोस्टमार्टम रिपोर्ट के बाद मामले में कुछ खुलासा हो सकती है।

मृतक के पुत्र ने बहन पर लगाया आरोप

मृतक के बहू और पुत्र ने अपनी बहन और अन्य के विरूद्ध अपने पिताजी की हत्या किये जाने की बात कही है। घटना स्थल पर एसडीपीओ वशिष्ठ नारायण सिंह व पुलिस इंस्पेक्टर सह थाना प्रभारी रवींद्र सिंह ने सभी बिंदुओं पर जांच कर आवश्यक कार्रवाई किये जाने की बात कही है। मौके पर पुलिस निरीक्षक बाल्मिकी प्रसाद सिंह, एएसआई सत्यम सिंह व अन्य पुलिस पदाधिकारी पहुंचे थे।

 

You May Also Like

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *