जिम्बाब्बे राष्ट्रपति की 41 साल छोटी पत्नी ने ही पलटी सत्ता

खुद को उपराष्ट्रपति बनवाने के लिए ही ग्रेसी ने रचा पूरा षड़यंत्र

राष्ट्रपति को नजरबंद किये जाने के बाद जिम्बाब्वे की सत्ता पर सेना के जनरल कांस्टेंटिनो चिवेंगा काबिज हो गये हैं। लेकिन, इतने बड़े तख्तापलट का जो राज खुला है वह चैंकाने वाला है। दरअसल, जिम्बाब्बे के राष्ट्रपति राॅबर्ट मुगाबे ने खुद से 41 साल छोटी जिस गे्रसी मुगाबे से शादी की थी, उसी ने यह तख्तापलट कराया है। यह षड़यंत्र उसने खुद को उपराष्ट्रपति बनवाने के लिए करवाया है। हालांकि सेना ने फिलहाल दोनों को नजरबंद कर रखा है। माना जा रहा है कि बाद में दोनों को रिहा कर ग्रेसी को उपराष्ट्रपति का पद सौंप दिया जाएगा।

खबरों के मुताबिक ग्रेसी मिगाबे जिम्बाब्वे की उपराष्ट्रपति बनना चाहती थी। मगर, कई नेता इस बात से सहमत नहीं थे। लिहाजा, उसने यह रास्ता चुना। मामूली टाइपिस्ट से देश की प्रथम महिला तक वह बनी। 93 साल के रॉबर्ट मुगाबे और 52 साल की ग्रेसी मुगाबे की लव स्टोरी खासी दिलचस्प है। अपने काम के दौरान ही ग्रेसी मुगाबे और रॉबर्ट मुगाबे की दोस्ती स्टेट हाउस में हुई थी। वर्ष 1996 में दोनों ने शादी कर ली।

ग्रेसी मुगाबे जिम्बाब्वे की राजनीति में दिलचस्पी लेने के साथ उसमें हिस्सा लेती हुई दिखती रही हैं। ग्रेसी के दो लड़के और एक लड़की है। उसने वर्ष 2013 में एक इंटरव्यू में कहा था कि जब स्टेट हाउस में वह काम कर रही थी तभी एक दिन रॉबर्ट उसके पास आये और उसके परिवार व उसकी निजी जिंदगी से जुड़े सवाल पूछे। रॉबर्ट मुगाबे ने उससे प्यार का इजहार भी किया था। बहरहाल, जिम्बाब्बे की सेना तख्तापलट से तत्काल इंकार कर रही है। लेकिन, जनरल का सरकार की कमान अपने हाथ में लेना कई राज खोल भी रहा है।

 

You May Also Like

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *