देश स्तरीय कबड्डी खिलाड़ी की सड़क हादसे में मौत

मौत से स्थानीय लोगों में उबाल, विरोध ने करीब डेढ़ घंटे रखा सड़क जाम/ कई पदक जीतकर विकेश ने बढ़ाया था देवघर का मान/ विकेश की मौत पर बाबा नगरी में शोक की लहर/ नो एंट्री में ट्रक घुसने से स्थानीय आक्रोशित लोगों ट्रैफिक पुलिस को कोसा, की तोड़फोड़

देवघर/संवाददाता। बाजार समिति के पास दूधकोठी के समीप राज्य स्तरीय कबड्डी खिलाड़ी विकेश कुमार की मंगलवार को सड़क हादसे में मौत हो गयी। उन्हें सुबह करीब 9 बजे एक ट्रक ने रौंद डाला। हादसे की खबर शहर में आग की तरह फैल गयी और बड़ी तादाद में लोग जुटकर लोग हादसे का विरोध करते हुए रोड जाम पर बैठ गये। इससे पहले मौका देख ड्राइवर ट्रक छोड़कर फरार हो गया। सूचना पर नगर थाना प्रभारी एसके महतो और कुंडा थाना प्रभारी एके टोपनो सदलबल घटनास्थल पर पहुंचे। पुलिस ने शव को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम कराया। इसके बाद शव के अंतिम संस्कार के लिए परिजनों को सौंप दिया। शहर में नो एंट्री आवर के दौरान शहर में घुसकर ट्रक ने एक बार फिर ट्रेफिक पुलिस की पोल खोल दी है। सड़क जाम कर रहे लोगों में ट्रेफिक पुलिस के प्रति आक्रोश दिखा। वैसे शव को पोस्टमार्टम के लिए ले जाने के बाद लोगों ने जाम हटा दिया। स्थानीय लोगों ने कहा कि नो एंट्री के बावजूद पुलिसकर्मी पैसा लेकर भारी वाहनों को शहर में दाखिल करा देते हैं। पोस्टमार्टम के लिए शव को जैसे ही पुलिस बल लेकर गयी स्थानीय लोग उग्र हो गये। लोगों ने ट्रक का शीशा फोड़ दिया और टायर को क्षतिग्रस्त कर दिया। इस दौरान लोगों ने करीब दो घंटे तक सड़क जाम रखा।

कैसे हुआ हादसा

कुंडा मोड़ स्थित चरकी पहाड़ी मोहल्ला निवासी विकेस सुबह वे अपने दोस्त से मिलने बाइक से चोपामोड़ स्थित जैप- 5 कैंप जा रहे थे। इसी दौरान सामने से आ रहे ट्रक ने उन्हें चपेट में लिया और करीब पांच मीटर तक घसीटता ले गया। जिससे घटनास्थल पर विकेश की मौत हो गयी। बताते हैं कि कबड्डी खिलाड़ी विकेश बाजार समिति के समीप ट्रक से आगे निकलने का प्रयास कर रहे थे। इसी क्रम में ट्रक चालक ने अचानक ट्रक को दाहिनी ओर मोड़ दिया। जिससे विकेश बाइक सहित ट्रक की चपेट में आ गया। फिलहाल विकेश देवघर कॉलेज में पार्ट थ्री के छात्र थे। साथ ही देवघर के ऑल टाइम ट्रांसपोर्ट कंपनी में काम करते थे।

भाई और बहन का दुलारा था विकेश

विकेश दो भाई और एक बहन था। बड़ा भाई जयवर्धन गांव में ट्यूशन पढ़ाकर जीवन यापन करता था। एक बहन की शादी हो गयी है। विकेश दोनों-भाई बहन का दुलारा था। मौत की घटना से शहर में मातम है। वहीं परिजानों का रो-रोकर बुरा हाल है।

27 फरवरी को थी कबड्डी प्रतियोगिता

विकेश का चयन 27 फरवरी को एमपी में होने वाले राज्य स्तरीय कबड्डी लीग में हुआ था। विकेश ने कबड्डी की नेशनल प्रतियोगिता में भी शिरकत की थी। कबड्डी के होनहार खिलाड़ी विकेश देवघर कबड्डी टीम का कप्तान था। राज्य स्तरीय प्रतियोगिताओं में उनके नेतृत्व ने देवघर को सात बार गोल्ड मेडल दिलाया।

सरकारी नौकरी की विकेश को थी तलाश

आर्थिक तंगी की वजह से विकाश को प्रतियोगिता में भाग लेने में कई बार मुश्किलों का सामना करना पड़ था। वह सरकारी नौकरी करना चाहता था। इसी को लेकर उसने राज्यस्तरीय प्रतियोगिता में शामिल होने से मना कर दिया था। उसने कबड्डी संघ के सचिव को अपनी मजबूरी बतायी थी। 13 फरवरी को हानेवाली पुलिस की बहाली में शामिल होने के लिए बोकारो जाने की उसने तैयारी की थी। इसके लिए कुछ पैसे की जुगाड़ में लगा था। इसी सिलसिले में विकेश अपने दोस्त के पास जैप-5 कैंप जा रहा था।

खिलाड़ी की मौत की कीमत सिर्फ 20 हजार

मौके पर पहुंचे सीओ ने बताया कि मृतक के परिजनों के लिए जिला खेल पदाधिकारी को 20 हजार रुपया के लिए पत्र लिखा है। उधर, बोकारो में चल रहे राज्य स्तरीय कबड्डी मैच में देवघर कबड्डी टीम ने रांची टीम को हराकर गोल्ड मैडल पर कब्जा जमाया। साथी खिड़ाड़ियों ने यह जीत अपने चैम्पियन विकेश को समर्पित किया है। इस दौरान मैच में कोच रामप्रवेश सिंह, कप्तान ललित कुमार झा, नितेश झा, राजू कुमार, मोनु कुमारी, नितेश कुमार, कन्हैया कुमार, विराट कुमार, कमांडो, अमित सहित अन्य खिलाड़ी शामिल थे।

You May Also Like

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *