बापु के खून से सने हाथ धोने की कोशिशः तुषार गांधी

हत्यारों ने ही चलाया है हत्या की परिस्थितियों को झुठलाने का अभियान

राष्ट्रपिता महात्मा गांधी के हत्यारे बापु के कत्ल की परिस्थितियों को झुठलाने के अभियान पर हैं। वे बापु के खून से सने हाथ धोने की कोशिश में हैं। ऐसा मानना है बापु के परपोते तुषार गांधी का। उन्होंने सर्वोच्च न्यायालय की ओर से बापू की हत्या के मामले को दोबारा खोले जाने का विरोध किया है। इसके विरोध में अपने हस्तक्षेप के अधिकार (लोकस स्टैंडी) पर उन्होंने अदालत को ध्यान दिलाते हुए कहा कि वे तुषार अरुण मणिलाल मोहनदास करमचंद गांधी हैं। बापु के परपोते हैं।

तुषार गांधी ने वर्ष 2007 में प्रकाशित अपनी किताब ‘लेट्स किल गांधी’ के मुख्य पृष्ठ की तस्वीर को सोमवार को ट्वीटर पर किये एक पोस्ट में सर्वोच्च न्यायालय से कहा है कि इस मामले के संबंध में यह उनका हस्तक्षेप का अधिकार (लोकस स्टैंडी) है। एक अन्य ट्वीट में उन्होंने कहा कि मैं तुषार अरुण मणिलाल मोहनदास करमचंद गांधी हूं। यह मेरी स्थिति है। सर्वोच्च न्यायालय, कृपया इसे नोट करे। जस्टिस एसए बोबडे और एमएम शांतनगौदर की ओर से 70 साल पुराने हत्याकांड मामले की दोबारा सुनवाई की याचिका का विरोध करने पर उनके अधिकार के बारे में पूछने के बाद तुषार गांधी ने ये ट्वीट किया है।

फिलहाल, तुषार गांधी की ओर से उनकी वकील इंदिरा जयसिंह ने कोर्ट से कहा है कि अगर न्यायालय नोटिस जारी करने के साथ आगे बढ़ता है तो वह अधिकार और हैसियत के मसले पर विस्तृत रूप से पक्ष पेश करेंगी। तुषार के ट्वीट से यही जाहिर हुआ है कि बापु के हत्यारे बापु के खून से सने हाथ धोने का प्रयास कर रहे हैं। जो तुषार किसी कीमत पर नहीं चाहते हैं।

You May Also Like

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *