मिशेल की डायरी में ‘हड्डी’ पाने वाला ‘कुत्ता’ कौन?

अगुस्टा वेस्टलैंड स्कैम के मामले में अब आगे

नयी दिल्ली/एजेंसी। अगुस्टा वेस्टलैंड घोटाले में सीबीआइ को एक ‘हड्डी’ पाने वाले ‘कुत्ते’ की तलाश है। सूत्रों का कहना वीवीआइ हेलिकॉप्टर डील में कथित बिचौलिए क्रिश्चन मिशेल और उसके साथी गाइडो हैश्के समेत अन्य लोगों की बातचीत के बीच कुत्ते और हड्डी का जिक्र आया है। अब जांच एजेंसी अगुस्टा वेस्टलैंड के वरिष्ठ अधिकारी (लियोनार्डो), मिशेल, हैश्के और कार्लो गेरोसा के बीच 8 फरवरी 2008 को हुई बातचीत को डिकोड करने में जुटी है।

इसमें ये सभी वीवीआइपी चॉपर डील में सीवीसी, डिफेंस सेक्रटरी, जॉइंट सेक्रटरी (एयर), एयरफोर्ट मेंटेनेंस कमांड और हेलिकॉप्टरों के लिए उड़ान मूल्यांकन टीम को बोर्ड पर लाने के बारे में बात कर रहे हैं। जांच एजेंसी को एक नोट मिला है जिसे कथित तौर पर मिशेल ने लिखा है। इस नोट की शुरुआत डील डिस्कस करने के लिए आयोजित की गई एक लंच पार्टी के जिक्र से होती है। इस नोट में मिशेल कथित तौर पर जीएच (गुइडो हैश्के) को ‘कल के लंच’ के लिए शुक्रिया कहते हुए उम्मीद जता रहा है कि ‘कुत्ते को हड्डी पसंद आई होगी।’ सीबीआइ और ईडी को आशंका है कि इस नोट में भारत के उस शख्स के बारे में बातचीत हो रही है जो इस कांट्रैक्ट के साथ डील कर रहा है। शायद उसी के लिए कोड या अशिष्ट भाषा में कुत्ता शब्द का इस्तेमाल किया गया है।

हैश्के पर आरोप है कि उसने अगुस्टा वेस्टलैंड के लिए त्यागी बंधुओं (पूर्व एयरफोर्स चीफ एसपी त्यागी के भाई) के जरिये लॉबिइंग की थी। वहीं मिशेल पर भारत में 25 बार लॉबी करने का आरोप है। एजेंसियों के मुताबिक मिशेल स्वतंत्र रूप से राजनेताओं, अफसर और डिफेंस पर्सनलों के संपर्क में था। सूत्रों ने बताया कि नोट के मुताबिक मिशेल को इस बात की जानकारी दी थी कि फ्लाइट का मूल्यांकन करने वाली टीम अमेरिका के सिकोर्स्की र-92 हेलिकॉप्टर्स और अगुस्टा अह-101 के लिए भेजी गई थी और 14 फरवरी को दिल्ली लौटने वाली थी। मिशेल ने नोट में लिखा है कि अगले दो महीने काफी कठिन होंगे और उनके लिए यह अंतिम मौका होगा।

नोट में इस बात का भी जिक्र है कि सेंट्रल विजिलेंस कमिशन चीफ अगुस्टा की बिड के पक्ष में तैयार होंगे। हाथ से लिखे गए इस नोट पर इटली कोर्ट ने अपने फैसले में 8.4 मिलियन यूरो की रिश्वतखोरी में सीवीसी समेत अन्य का जिक्र किया है। मिशेल द्वारा कथित तौर पर लिखे गए इस नोट में कहा गया है कि अगर हम मजबूत केस पेश करें और सरकार का सहयोग हो तो सभी मेजर कांट्रैक्ट्स की नीतियां बनाने वाले सीवीसी हमें स्वीकार करेंगे। मिशेल ने इस नोट में आगे लिखा है कि एयरफोर्स की मेंटेनेंस कमांड हमारे साथ टेक्निकल और मेंटेनेंस इशू पर काम करने के लिए तैयार है, जबकि डिफेंस सेक्रटरी और जॉइंट सेक्रटरी (एयर) को बोर्ड पर लाना होगा। मिशेल ने यह भी लिखा है कि फ्लाइट मूल्यांकन टीम ने पीटर हुलेट (तब अगुस्टा गवर्नमेंट सेल्स के रीजन हेड) से कहा था कि कांट्रैक्ट जीतने के लिए बस सवालों के सही और समय पर जवाब देने की जरूरत है।

You May Also Like

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *