शिबू श्रृंगारी हत्याकांड का आरोपी गौरव नरौने गिरफ्तार

पोस्टमार्टम से पहले पुलिस ने अरोपी को किया अरेस्ट/अन्य तीन आरोपी सूरज मिश्रा, करण जायसवाल और अक्षय कुमार की गिरफ्तारी के लिए छापेमारी जारी/मृतक शिबू श्रृंगारी और आरोपी गौरव नरौने का रहा है आपराधिक इतिहास/क्रिमिनल को आर्थिक रूप से कमजोर करने का तैयार किया गया खाका/अपराधियों की संपत्ति जब्त करने को ईडी को दिया जाएगा आवेदन: एसपी/ कई अपराधियों को जिला बदर करने का भेजा प्रस्ताव

देवघर/संवाददता। बीती शाम सरिता होटल के पास शिबू श्रृंगारी की हत्या मामले में पुलिस ने त्वरित कार्रवाई करते हुए अरोपी गौरव नरौने को जुनपोखर से गिरफ्तार किया है। मामले को लेकर देवघर एसपी नरेंद्र कुमार सिंह ने पत्रकारों से बातचीत में बताया कि हत्या के छह घंटे के अंदर पुलिस ने हत्या में संलिप्त एक आरोपी गौरव नरौने को गिरफ्तार कर लिया है। अन्य अपराधियों की तलाश में पुलिस छापेमारी कर रही है।

सीसीटीवी फुटेज के आधार पर नरौने को दबोचा

सरिता होटल के आसपास लगे सीसीटीवी कैमरे में खंगाले गए फुटेज के आधार पर पुलिस ने एक आरोपी को धर दबोचा है। फुटेज खंगालने के दौरान पुलिस को कई महत्वपूर्ण जानकारी हाथ लगी है। पुलिस ने जल्द ही सभी आरोपियों को गिरफ्तार करने का दावा किया है।

कई अपराधों में संलिप्त रहा था शिबू श्रृंगारी

पूर्व में हुई दो हत्या मामले में शिबू के खिलाफ नगर थाना में प्राथमिकी दर्ज है। पहला मामला 07 जून 2011 को और दूसरा मामला 07 अप्रैल 2017 को दर्ज किया गया था।

गिरफ्तार नरौने पर हैं कई मामले दर्ज

अपराधी गौरव नरौने के खिलाफ नगर थाना में तीन मामला दर्ज है। 27 मई 2014 को हत्या का मामला दर्ज हुआ। दूसरा मामला 13 जुलाई 2017 को दर्ज हुआ था। इस मामले में घर में घुसकर मारपीट और रंगदारी का उसपर आरोप है। नरौने पर तीसरे मामला 21 नवंबर 2017 को दर्ज हुआ। इसमें मारपीट कर घायल करने और रंगदारी का आरोप दर्ज है।

देवघर में अपराधियों को नयी रणनीति से साधेगी पुलिस

देवघर में बढ़ते अपराध पर नियंत्रण के लिए पुलिस ने नयी रणनीति पर काम करना शुरू कर दिया है। साथ ही साथ ही पुलिस ने अपनी रणनीति पर काम आगे बढ़ाने के लिए खाका तैयार किया है। इस नयी रणनीति के तहत पुलिस को फोकस अपराधियों को आर्थिक रूप से कमजोर करना है। इस मामले में एसपी नरेंद्र कुमार सिंह ने बताया कि देवघर पुलिस अब क्रिमिनल को आर्थिक रूप से कमजोर करने पर विचार कर रही है। जिले के कुख्यात अपराधियों की चल अचल संपत्ति को चिन्हित करने के बाद पुलिस उसकी संपत्ति को जब्त करने के लिए ईडी यानी प्रवर्त्तन निदेशालय को प्रस्ताव भेजेगी। ताकि कुख्यात अपराधियों को अर्थिक रूप से पंगु बनाया जा सके।

कई लोगों को जिला बदर करने के लिए पुलिस ने प्रस्ताव भेजा है। जिन अपराधियों को जिला बदर करने का प्रस्ताव भेजा दगया है, उनमें नगर थाना क्षेत्र की बैद्यनाथ गली निवासी बाबा परिहस्त, पुरनदाहा निवासी राजेश यादव उर्फ बंटा, हिंदी विद्यापीठ निवासी छोटू श्रृंगारी उर्फ चंद्रशेखर श्रृंगारी, बिलासी टाउन निवासी राजन सिंह राजपूत, जलसार निवासी सागर राउत, बस स्टैंड निवासी छोटू धपरा, झौंसागढ़ी निवासी राहुल मिश्रा, जूनपोखर निवासी गौरव नरौने, चक्रवर्ती निवासी प्रदीप नरौने, गोरु खवाड़े, आशुतोष लेन निवासी विजय मठपति, पालाजोरी थाना क्षेत्र के असना निवासी अजय कुमार, मागार्ेमुंडा थाना के फुलची निवासी अंचित दास और सारवां थाना क्षेत्र के दोयम तेलियाडीहा निवासी उमेश हाजरा का नाम शामिल है।

You May Also Like

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *