शिबू सोरेन के चेहरे पर कालिख पोत दो: निशिकांत

रेलवे के कार्यक्रम के बाद सांसद ने बयानों से गुरुजी पर किया तीखा हमला/10 साल से सांसद गुरुजी को सदन में सवाल नहीं उठाने के लिए कोसा/झामुमो ने किया विरोध प्रदर्शन, लगाया ‘निशिकांत दुबे वापस जाओ का नारा’/दुमका में समारोह के आयोजन की खिलाफल कर रही झामुमो को मंत्री लुईस ने लताड़ा

दुमका/संवाददाता। भागलपुर तक विस्तारित कविगुरु एक्सप्रेस को हरी झंडी दिखाने के दौरान झामुमो के विरोध प्रदर्शन की प्रतिक्रिया में सांसद निशिकांत दुबे ने झामुमो सुप्रीमो शिबू सोरेन पर बयानों से तीखे हमले किये। उन्होंने कहा कि 10 साल से सांसद गुरुजी ने आजतक दुमका के विकास के लिए लोकसभा में एक भी सवाल नहीं उठाया। यदि कोई बता दे कि उन्होंने एक भी सवाल किया तो निशिकांत दुबे राजनीति से सन्यास ले लेगा। केवल सोनेवाले सांसद से विकास नहीं होगा। विकास के लिए जनता की आवाज बननी पड़ती है। दुमका में ट्रेन भाजपा के प्रयास से आयी है। उन्होंने सवाल किया कि जब शिबू सोरेन सत्ता में थे तो उन्होंने रेल क्यों नहीं लाया? श्री दुबे ने झामुमो कार्यकर्ताओं से कहा कि उन्हें शिबू सोरेन को काला झंडा दिखाना चाहिये और उनके चेहरे पर कालिख पोतनी चाहिये। उन्होंने झामुमो कार्यकर्ताओं को यह भी नसीहत दी कि वह शिबू सोरेन से जाकर कहें कि अब आप बुढ़े हो गये हैं, अब आपसे विकास नहीं होगा।

सांसद व मंत्री ने दुमका में दिखायी ट्रेन को हरी झंडी

दुमका रेलवे स्टेशन पर शनिवार की शाम ससमारोह भाजपा के गोड्डा सांसद निशिकांत दुबे, पूर्व सांसद शाहनवाज हुसैन, समाज कल्याण मंत्री डॉ. लुईस मरांडी सहित अन्य नेताओं ने हरी झंडी दिखाकर भागलपुर तक विस्तारित कविगुरु एक्सप्रेस ट्रेन (13015/13016) का स्वागत किया। साथ ही भागलपुर की ओर ट्रेन को रवाना किया। यह ट्रेन पहले हावड़ा से बोलपुर तक ही चलती थी। इस दौरान रेलवे स्टेशन पर झामुमो कार्यकर्ताओं ने पार्टी के झंडे के साथ नारेबाजी करते हुए विरोध प्रदर्शन किया। झामुमो जिलाध्यक्ष सुभाष सिंह के नेतृत्व में हुए विरोध प्रदर्शन में ‘निशिकांत दुबे वापस जाओ’ के नारे लगाये गये। झामुमो नेता श्री सिंह ने कहा कि समारोह भागलुपर या हावड़ा में होना चाहिये था। क्योंकि, यह ट्रेन हावड़ा से भागलपुर के लिए है। कार्यक्रम में दुमका सांसद शिबू सोरेन को नहीं बुलाया गया। जबकि गोड्डा सांसद निशिकांत दुबे और भागलपुर के पूर्व सांसद शाहनवाज हुसैन तक इस कार्यक्रम में आमंत्रित किये गये। जबकि मंत्री लुईस मरांडी ने झामुमो के विरोध की आलोचना की।

दुमका के विकास के लिए यहा हुआ समारोह: दुबे

सांसद निशिकांत दुबे ने कहा कि समारोह का आयोजन दुमका के बदले हंसडीहा या भागलपुर रेलवे स्टेशन में भी कराया जा सकता था, पर दुमका में इसलिए कराया गया ताकि इसका विकास हो। अगर हंसडीहा रेलवे स्टेशन में यह कार्यक्रम होता तो कोई विरोध नहीं होता। पूर्व सांसद व भाजपा प्रवक्ता शहनवाज हुसैन ने कहा कि सांसद निशिकांत दुबे के प्रयासों से देवघर में एयरपोर्ट और एम्स को स्वीकृति मिली। कई विकास कार्य संताल परगना में हुए। ऐसे में झामुमो का विरोध प्रदर्शन बेवजह है। उन्होंने भाजपा की कई उपलब्धियां भी गिनायी। पूर्व रेलवे के आसनसोल रेल डिविजन के आयोजित कार्यक्रम में मंच पर डीआरएम पीके मिश्रा भी मोजूद थे।

चिल्लाने से कुछ नहीं होनेवाला, जनता देगी जवाब: डॉ. लुईस

समाज कल्याण मंत्री डॉ. लुईस मरांडी ने कहा कि विरोध प्रदर्शन करने से कोई फर्क नहीं पड़ता है। जो यहां झंडा उठाकर विरोध कर रहे हैं, वह बताएं कि उनके नेता का यहां के विकास में क्या योगदान रहा है। दुमका और संथाल परगना की जनता अब मुर्ख नहीं रही। वह किसी के बरगलाने से भटकने वाली नहीं। वह विकास को पहचान चुकी हैं। उन्होंने कहा कि कौन जनता के हित में कितना काम करता है कौन काम नहीं करता है, जनता सबकुछ जानती है। चिल्लाने से कुछ नहीं होनेवाला। समय आयेगा तो जनता जवाब देगी। उन्होंने कहा कि भाजपा वोट की नहीं बल्कि विकास की राजनीति करती है।

You May Also Like

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *