100 करोड़ से झारखंड में लायी जाएगी मीठी क्रांति : रणधीर

झारखंड में 12 हजार व संताल में 4500 मधुपालकों के लिए योजना / संताल में 99 प्रतिशत सुखाड़, शीघ्र मिलेगी फसल बीमा/  रवींद्र नाथ टैगोर कृषि कॉलेज का कृषि मंत्री व सांसद ने किया उदघाटन

देवघर/संवाददाता। मोहनपुर प्रखंड के जयपुर में रवींद्र नाथ टैगोर कृषि विश्वविद्यालय का उदघाटन कृषि मंत्री रणधीर कुमार सिंह व सांसद निशिकांत दुबे ने संयुक्त रूप से किया। मौके पर कृषि मंत्री रणधीर कुमार सिंह ने कहा कि झारखंड में मीठी क्रांति पर 100 करोड़ रुपया खर्ज होंगे, जिसके तहत 12 हजार मधुपालकों को जोड़ा जाएगा। इससे संताल परगना के 4500 मधुपालक लाभांवित होंगे। इसकी शुरुआत जामा प्रखंड से की जायेगी। उन्होंने कहा कि संताल परगना की 80 प्रतिशत आबादी कृषि पर निर्भर है। आज गोड्डा लोकसभा के लिए ऐतिहासिक दिन है। एक ही दिन दो कृषि कॉलेज का उदघाटन हो रहा है। सांसद निशिकांत की साकारात्मक सोच से ही यह सपना साकार हो सका है।

सूबे में खोले जाएंगे 7 कृषि कॉलेज

झारखंड में सात कृषि कॉलेज खोले जाने हैं, जिसका बजट 178 करोड़ का है। लेकिन, राशि कम रहने से उनका शुभारंभ करते हुए 72 करोड़ तत्काल उपलब्ध कराया गया है। 68 करोड़ की पुन: मांग की गयी है। गोड्डा में राज्य का दूसरे कृषि विश्वविद्यालय की स्थापना शीघ्र होगी। केंद्र व राज्य सरकार से इसकी मंजूरी हुई है। मंत्री ने कहा कि पूर्व की सरकार द्वारा चरमरायी व्यवस्था को रघुवर सरकार पटरी पर ला रही है। मंत्रिमंडल की बैठक में संताल परगना को 99 प्रतिशत सुखाड़ घोषित किया गया। फसल कटायी के बाद किसानों को फसल बीमा के साथ अनुदान पर बीज वगैरह उपलब्ध कराया जायेगा। मोहनपुर प्रखंड क्षेत्र में अगले माह शिविर लगाकर गाय वितरण किया जायेगा।

अर्जुन मुंडा के पतन का कारण था यह कृषि कॉलेज : निशिकांत

सांसद निशिकांत दुबे ने कहा कि 28 मार्च 2012 को रवींद्र नाथ टैगोर कृषि महाविद्यालय के शिलान्यास के कारण ही चंद महीनों में तत्कालीन मुख्यमंत्री अर्जुन मुंडा की सरकार चली गयी। राज्य सरकार ने पैसे की कमी के बाद भी कृषि कॉलेज का शुभारम्भ किया है। उन्होंने कॉलेज में मुलभूत सुविधा उपलब्ध कराने की बात कही। तत्काल कैफेटेरिया, पुस्तकालय के लिए पुस्तक, एम्बुलेंस अपने फंड से देने का आश्वासन दिया। साथ ही ओपी का निर्माण कराने की बात कही। उन्होंने कॉलेज में छात्राओं की अधिक संख्या पर खुशी जाहिर करते हुए कहा कि कृषि के क्षेत्र में महिलाएं आगे आ रही हैं, जो शुभ संकेत है। उन्होंने कहा कि स्थानीय विधायक ने 15-15 दिनों में आकर समस्याओं का निदान कराने की बात कही है।

दिख रहा विकास का परिदृश्य : नारायण

स्थानीय विधायक नारायण दास ने कहा कि 2012 में सांसद निशिकांत ने इस कॉलेज की नींव रखी थी जिसका आज उदघाटन होना सुखद अनुभूति है। विकास परिदृश्य दिख रहा है। उन्होंने कृषि मंत्री से सारठ के साथ देवघर विधानसभा में गाय वितरण, सिंचाई सुविधा सहित संसाधनों की मांग की ताकि यह क्षेत्र कृषि में कीर्तिमान स्थापित कर सके।

गुरुदेव के नाम कृषि कॉलेज गौरव की बात: कुलपति

बिरसा कृषि विश्वविद्यालय के कुलपति परमिंदर कौशल ने कहा कि रवींद्र नाथ टैगोर के नाम से कृषि कॉलेज गौरव की बात है। ग्रामीणों के लिए यह कॉलेज समर्पित है। पिछले वर्ष ही इसकी कक्षा रांची में चालू कर दी गयी थी। अब सभी विद्यार्थी यहां आकर पठन-पाठन शुरु कर दिये हैं। उन्होंने कहा कि इस क्षेत्र से एक-एक गांव को गोद लेकर प्रशिक्षण देने के साथ किसानों का लेक्चर भी कॉलेज में होगा। प्रत्येक वर्ष 50 विद्यार्थी का नामांकन होगा और 200 विद्यार्थी एक साथ शिक्षण ग्रहण करेंगे।

कृषि मंत्री ने गोड्डा में कृषि कॉलेज का किया उद्घाटन

गोड्डा। संवाददाता/ सदर प्रखंड के पुनसिया मौजा में नवनिर्मित तिलका मांझी कृषि कॉलेज का विधिवत उद्घाटन बुधवार को सूबे के कृषि मंत्री रणधीर सिंह, स्थानीय सांसद डॉ निशिकांत दुबे, उपायुक्त किरण पासी व एसपी राजीव रंजन सिंह ने संयुक्त रूप से किया। मौके पर मंत्री रणधीर सिंह ने कहा कि सरकार कृषि के क्षेत्र में क्रांतिकारी बदलाव लाने के लिए कृत संकल्पित है। इसलिए राज्य में तीन नये कृषि कॉलेज की स्थापना की गयी है। जिसमें दो संतालपरगना प्रमंडल में ही अवस्थित हंै। गोड्डा में जल्द कृषि विश्वविद्यालय की स्थापना भी की जाएगी। सांसद श्री दुबे ने कहा कि यह कृषि कॉलेज इलाके के किसानों के लिए मील का पत्थर साबित होगा। नये-नये अनुसंधान होंगे। किसानों को खेतीबारी की वैज्ञानिक जानकारी मिलेगी। उन्होंने कहा कि सरकार किसानों की आय में दोगुनी वृद्धि करने के लिए प्रयासरत है।

 

You May Also Like

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *