बीएसएफ जवान सीताराम उपाध्याय जम्मू-कश्मीर में शहीद

गिरिडीह, 18 मई: झारखंड के लाल सीताराम उपाध्याय जम्मू-कश्मीर के आरएसपुरा और अरनिया सेक्टर में गुरुवार की रात को शहीद हो गये. वे बीएसएफ के जवान थे. गिरिडीह जिले के उग्रवाद प्रभावित पीरटांड़ प्रखंड के पालगंज निवासी ब्रजनंदन उपाध्याय के पुत्र सीताराम के दो बच्चे हैं। एक पुत्री तीन साल की और एक पुत्र एक साल का। जब से उनके गांव पालंगज में यह खबर पहुंची है, गांव में मातम और आक्रोश है. शहीद जवान की पत्नी रेशमी उपाध्याय ने रमजान के नाम पर एकतरफा संघर्षविराम की घोषणा करने के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को जमकर कोसा. रेशमी ने कहा कि उनके पति की मौत के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जिम्मेदार हैं. रेशमी ने कहा कि इस सरकार ने उनका सब कुछ छीन लिया. मोदी सरकार दिखावे के लिए फायरिंग करवा रही है. शहीद की पत्नी ने कहा कि मुआवजा से क्या होगा? क्या उनके बच्चों के पिता लौट आयेंगे? रेशमी ने बताया कि बेटे का मुंडन करवाने के बाद 2 मई, 2018 को ड्यूटी पर लौट गये थे. कहा था कि जुलाई में फिर गांव आयेंगे. रेशमी ने कहा कि एक तरफ पाकिस्तान लगातार हमला कर रहा है, वहीं मोदी सरकार ने रमजान को देखते हुए सीजफायर की घोषणा कर दी. सीताराम के भाई सोनू उपाध्याय के साथ उनके गांव के सेवानिवृत्त शिक्षक उदय शंकर उपाध्याय, चेचरा भाई अभिनव उपाध्याय भी काफी गुस्से में हैं. उनका कहना है कि उन्हें फख्र है कि उसका भाई, उनका लाल देश की रक्षा में शहीद हुआ है. लेकिन, देश की सरकार को दुश्मन को सजा देने के लिए सख्त कदम उठाना चाहिए. सरकार को पाकिस्तान पर हमला बोलना चाहिए.
रघुवर दास ने सीताराम को दी श्रद्धांजलि: रघुवर दास ने ट्वीट कर सीताराम को श्रद्धांजलि दी. उन्होंने लिखा, ‘जम्मू-कश्मीर सीमा पर झारखंड के वीर सपूत सीताराम उपाध्याय जी देश की सरहद की रक्षा करते हुए शहीद हो गये. ईश्वर उनके परिवार को ये असहनीय दुख सहने की शक्ति दे. पाकिस्तान की इस कायराना हरकत का मुंहतोड़ जवाब दिया जायेगा. शहीद सीताराम जी को विनम्र श्रद्धांजलि.’

You May Also Like

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *