रेस्कयू किये गये तीन बच्चे गिरिडीह चाइल्डलाइन के सुपुर्द

एलेप्पी एक्सप्रेस ट्रेन से बच्चों का बोकारो बाल कल्याण समिति ने किया था रेस्कयू

गिरिडीह/ संवाददाता। बोकारो रेलवे स्टेशन पर एलेप्पी एक्सप्रेस से 12 जुलाई को रेस्कयू कर मानव तस्करों के हाथों से बचाये गये दर्जनों बच्चों में तीन की पहचान गिरिडीह निवासी के रूप में हुई है। ये तीनों बच्चे गिरिडीह जिले के अहिल्यापुर थाना क्षेत्र के बाघाडीह के रहने वाले हैं। रविवार को बोकारो बाल कल्याण समिति ने तीनोंे बच्चों को चाइल्डलाइन गिरिडीह के सुपुर्द कर दिया है। इन बच्चों को चाइल्ड लाइन के माध्यम से बाल कल्याण समिति के समक्ष प्रस्तुत किया गया। बाल कल्याण समिति व जिला बाल संरक्षण पदाधिकारी ने बच्चों का बयान लेकर उन्हें उनके परिजनों के हवाले कर दिया।

बाल संरक्षण पदाधिकारी जीतू कुमार ने कहा कि राज्य में बच्चों की शिक्षा के लिए सरकार ने विभिन्न योजनाओंं का संचालन कर रखा है। बावजूद इसके रेस्कयू किये गये तीन बच्चों में से दो बच्चे स्कूल नहीं जाते हैं।  बाल कल्याण समिति की सदस्य तमन्ना परवीन ने बच्चों के अभिभावकोंे से कहा कि झारखंड में भी कई मदरसा हैं, जहां बच्चों को नि:शुल्क शिक्षा दी जाती है। बच्चे को अन्य राज्यों में मजदूरी के लिए न भेज कर बेहतर शिक्षा दिलानी चाहिए। तत्काल बच्चों को घर के आसपास के विद्यालय में नामाकंन करवा कर पढ़ाने की जरूरत है। उन्होंेने अभिभावकों से 15 दिन के अंतराल पर बच्चों को पुन: समिति के समक्ष प्रस्तुत करने को कहा। मौके पर सामाजिक कार्यकर्ता सरोजित कुमार, अजय कुमार सिन्हा, अनंत कुमार, नरेश कुमार यादव और रेखा कुमारी उपस्थित थीं।

You May Also Like

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *