प्रवर्तन निदेशालय ने झारखंड इस्पात प्लांट को किया सील

 विभाग के अधिकारियों ने फैक्ट्री के सामने लगाए बोर्ड/ अब प्रवर्तन निदेशालय की देखरेख में चलेगी फैक्ट्री

रामगढ़। राज्य के प्रसिद्ध उद्योगपति रामचंद्र रूंगटा के प्लांट को ईडी (प्रवर्तन निदेशालय) ने सोमवार को सील कर दिया। राज्य के बड़े औद्योगिक उपक्रम में शामिल आयरन ओर फैक्ट्री झारखंड इस्पात प्राइवेट लिमिटेड को प्रवर्तन निदेशालय ने अपने अधीन में ले लिया है। साथ ही रामगढ़ थाना क्षेत्र के हेसला में स्थित झारखंड इस्पात प्राइवेट लिमिटेड को अटैच करते हुए फैक्ट्री गेट के बाहर बोर्ड लगा दिया है। अब यह फैक्ट्री प्रवर्तन निदेशालय की देखरेख में चलेगी। झारखंड के एक बड़े उद्योग पर प्रवर्तन निदेशालय की कार्रवाई से व्यवसायियों और उद्योगपतियों में खलबली मच गई है।

प्रवर्तन निदेशालय के अधिकारियों ने बताया कि कंपनी पर 2014 में मनी लॉन्ड्रिंग का मामला दर्ज किया गया था। सीबीआई जांच के बाद फैक्ट्री प्रबंधन पर प्राथमिकी दर्ज की गई थी। इसके बाद फैक्ट्री प्रबंधक आरसी रुंगटा को जेल भी जाना पड़ा। अधिकारियों ने बताया कि प्रवर्तन निदेशालय की देखरेख में झारखंड इस्पात फैक्ट्री चलेगी।

बताया गया कि प्रवर्तन निदेशालय ने फैक्ट्री की मशीन को पहले ही अटैच कर लिया था। अब 19 अगस्त को फैक्ट्री की 25.54 एकड़ जमीन को भी अटैच कर दिया गया। इस प्रकार पूरी फैक्ट्री प्रवर्तन निदेशालय के अधीन हो गई। प्रवर्तन निदेशालय के अनुसंधान अधिकारी एवं अन्य अधिकारी सोमवार को पहुंचकर यह कार्रवाई की। रामगढ़ थाना पुलिस सुरक्षा के ख्याल से वहां मौजूद थी।

यह कार्रवाई प्रवर्तन निदेशालय रांची की टीम ने की। बताया कि मनमोहन सिंह सरकार के समय कोल ब्लॉक आवंटन में गड़बड़ी की गई थी। जिसके बाद आरसी रूंगटा को एक कोल ब्लॉक मिला था। वर्ष 2014 में केंद्र सरकार ने इसकी सीबीआई जांच कराई। सीबीआई ने पूरे मामले की छानबीन कर प्राथमिकी दर्ज कराई। इसके बाद फैक्ट्री प्रबंधक आरसी रूंगटा को 3 साल की सजा सुनाई गई थी।

You May Also Like

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *