झारखंड में 6 सीटों पर चुनाव लड़ेगी लोजपा : चिराग पासवान

जरमुंडी से वीरेन्द्र प्रधान को किया प्रत्याशी घोषित/डबल इंजन की सरकार के बावजूद जरमुंडी का अपेक्षित विकास नहीं/बासुकीनाथ में रैली कर लोजपा ने जरमुंडी सीट पर की दावेदारी

दुमका/संवाददाता। लोजपा नेता और पार्टी संसदीय दल के अध्यक्ष चिराग पासवान ने रविवार को बासुकिनाथ नंदी चौक पर लोजपा की हुंकार महारैली में भाजपा के साथ गठबंधन के तहत झारखंड में आधा दर्जन विधानसभा सीटों पर चुनाव लड़ने की घोषणा की। उन्होंने कहा कि लोजपा ने झारखंड में चुनिंदा 6 विधानसभा सीटों पर चुनाव लड़ने का निर्णय लेते हुए भाजपा के शीर्ष नेतृत्व और मुख्यमंत्री रघुवर दास को सीटों की सूची दे दी है, जिसमें जरमुंडी विधानसभा सीट भी शामिल है। चिराग पासवान ने जरमुंडी विधानसभा क्षेत्र से वीरेंद्र प्रधान को लोजपा का प्रत्याशी भी घोषित कर दिया।

जरमुंडी के पिछड़ेपन को बनाया मुद्दा

श्री पासवान ने कहा कि एनडीए की डबल इंजन की सरकार के बावजूद जरमुंडी विधानसभा क्षेत्र में मजबूत नेतृत्व के अभाव की वजह से धरातल पर विकास कार्य नहीं हुए हैं। जरमुंडी विधानसभा क्षेत्र में आज भी मूलभूत सुविधाओं का अभाव है। लोजपाा के झारखंड प्रदेश अध्यक्ष विरेन्द्र प्रधान निरंतर जरमुंडी विधानसभा क्षेत्र के विकास कार्य की चिंता करतेे हैं और पूरी तत्परता के साथ क्षेत्र की जनता से जुड़ेे हैं। लोजपा की रैली में मंच पर खगड़िया के सांसद महबूब अली केसर, नवादा के सांसद चंदन सिंह, लोजपा के राष्ट्रीय महासचिव राजकुमार राज, लोजपा किसान मोर्चा के राष्ट्रीय अध्यक्ष गुप्तेश्वर राय, झारखंड प्रदेश अध्यक्ष वीरेंद्र प्रधान, राजू झा, संतलाल मरांडी आदि मौजूद थे।

जात-पात व धर्म की राजनीति करने वालों से करें परहेज

सांसद चिराग पासवान ने कहा कि आज जात-पात और धर्म की राजनीति करने वाले नेताओं से परहेज करनेे की जरूरत है। सबका साथ, सबका विकास सबके विश्वास से करनेे का नारा देेेने वाले प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के एनडीए गठबंधन के साथ मजबूती से जुड़ने की जरूरत है। उन्होंनेे कहा कि भारत में आज यदि कोई वर्ग और भेद है, तो वह गरीब और अमीर का है। जब तक अमीरी और गरीबी की इस खाई को नहीं मिटाया जाएगा, तब तक सही मायनों में एक अच्छे राष्ट्र की संकल्पना नहीं की जा सकती।

गठबंधन के तहत 2014 में लोजपा को मिली थी शिकारीपाड़ा सीट

वर्ष 2014 के विधानसभा चुनाव में लोजपा ने झारखंड में एनडीए गठबंधन के तहत चुनाव लड़ा था। राज्य के 81 सीटों में से लोजपा को गठबंधन के तहत एकमात्र शिकारीपाड़ा विधानसभा सीट मिली थी, जिसपर पार्टी ने शिवधन मुर्मू को चुनाव लड़ाया था, पर वह जीत नहीं पाये। इस बार जदयू प्रदेश अध्यक्ष सालखन मुर्मू ने खुद को शिकारीपाड़ा से पार्टी प्रत्याशी घोषित कर दिया है और शिकारीपाड़ा में मकान किराया पर लेकर वह वहीं रह रहे हैं। भाजपा भी इस बार शिकारीपाड़ा सीट से खुद चुनाव लड़ने के लिए अड़ी हुई है। यही कारण है कि लोजपा ने शिकारीपाड़ा को छोड़ कर जरमुंडी सीट पर दावेदारी की है जहां से कांग्रेस के बादल वर्तमान में विधायक हैं। हालांकि जरमुंडी भाजपा की परंपरागत सीट रही है।

You May Also Like

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *