अनियंत्रित हाइवा ने रौंद कर ली बच्चे की जान

सड़क हादसे में बच्चे की मौत से भारी उबाल, तीन घंटे जाम/सड़क पर टुकड़ों में बिखरे शव देखकर आक्रोशित हुए ग्रामीण /विधायक के समझाने पर मानें ग्रामीण, हाइवा को नहीं किया आग के हवाले/पीड़ित परिवार को पांच लाख के मुआवजे के लिए मानी कंस्ट्रक्शन कंपनी, हटा जाम

सारवां/संवाददाता। सारवां थाना क्षेत्र के दलदली स्कूल के समीप शनिवार को एक तेज रफ्तार हाइवा ने 10 वर्षीय बच्चे को रौंद डाला। घटना से बच्चे का शव टुकड़ों में सड़क पर बिखर गया। इससे आक्रोशित हुए स्थानीय लोगों ने हाइवा में तोड़फोड़ की और इसे आग के हवाले करने का प्रयास किया। हालांकि सूचना पर पहुंचे जरमुंडी विधायक बादल पत्रलेख के प्रयास पर लोग हाइवा को नहीं जलाने पर मान गये। लेकिन वे जाम पर बैठ गये। जाम तीन घंटे तक रहा। इस दौरान देवघर-सारठ मार्ग में दोनों ओर वाहनों का काफिला लग गया। मृतक बच्चे की पहचान धरमपुर निवासी पुरन राणा के दस साल के बेटे बच्चन राणा के रूप में हुई है। जबकि हाइवा देवघर से सारठ गिट्टी लोड कर जा रही थी। यह हाइवा सिन्हा कंस्ट्रक्शन कंपनी की है।

कैसे हुआ हादसा

मृत बच्चे के परिजनों ने बताया है कि बच्चा अपनी बड़ी बहन को बस पर चढ़ाने के लिए दलदली आया था। लौटते वक्त वह एक दुकान में नास्ते की कुछ सामग्री खरीदकर खाते हुए घर जा रहा था। इसी बीच देवघर की तरफ से तेज रफ्तार में आ रही सिन्हा कंस्ट्रशन की हाइवा जेएच 15 पी 5448 ने उक्त बालक को कुचल दिया। इससे बच्चे की मौत घटनास्थल पर ही हो गई। लबकि शरीर सड़क पर बिखर गया।

बिखरे शव से लिपट कर रोती रही बहन

मौत की खबर पाते ही धर्मपुर गांव से परिजनों के साथ दहाड़ मारते हुए उसकी मां व बहन घटनास्थल पर पहंची। बच्चे को मृत देखकर उसकी मां बेहोश हो गिर पड़ी। जबकि बहन भाई के क्षत-विक्षत शव से लिपट कर रोने लगी। चारों ओर क्रंदन ही क्रंदन था। इसी बीच अचानक भीड़ उग्र हो गयी और हाइवा में तोड़-फोड़ करने लगी। मौके पर पहुंचे विधायक बादल के काफी समझाने पर भीड़ ने हाइवा को आग के हवाले नहीं किया। उग्र ग्रामीणों ने इस हादसे को देख देवघर सारठ मुख्य सड़क को जाम कर दिया। विधादल के साथ बीडीओ विजय कुमार ने लोगों को शांत कराने का पा्रयास किया। इस दौरान सारवां, सारठ व सोनारायठाढ़ी थाना की पुलिस मौजूद थी।

वार्ता के बाद हटा जाम

इधर विधायक बादल पत्रलेख ने कहा कि सिन्हा कंस्ट्रक्शन की अनियंत्रित हाइवा से दुर्घटना हुई है। पीड़ित परिवार को मुआवजे के लिए वार्ता में ग्रामीण भी शामिल रहे। स्कूल के आसपास अनियंत्रित गति से वाहन चलाना नियम के विरूद्ध है। कंस्ट्रक्शन कंपनी के मालिक ने पांच लाख मुआवजे की घोषणा की है। इस घोषणा के बाद सड़क जाम हटा। वार्ता में चिरंजीव यादव, संजय राय, पूर्व जिप जितेंद्र सिंह, लालू मिश्रा, मुबारक अंसारी, विधायक प्रतिनिधि नरेश यादव, थाना प्रभारी देवेंद्र सिंह सहित सारठ और सोनारायठाढ़ी के पुलिस कर्मी उपस्थित थे।

You May Also Like

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *