ठेकेदार से 20 लाख रंगदारी मांगनेवाले दो अपराधी गिरफ्तार

भयभीत करने के लिए जेसीबी में की थी तोड़फोड़ और चलायी थी गोली/गिरोह के सरगना गंगाधार मांझी व चुनचुन मांझी की भी होगी गिरफ्तारी

दुमका/संवाददाता। जरमुंडी के एक ठेकेदार से 20 लाख रुपये रंगदारी मांगने और उसे भयभीत करने के लिए उसके जेसीबी में तोड़फोड़ करने और गोली चलाने के मामले में पुलिस ने दो अपराधियों- रंजय राय और दिलीप पुुजहर को गिरफ्तार कर लिया है। इस घटना में चार अपराधी शामिल थे, जिसमें से दो मुख्य सरगना गंगाधार मांझी और चुनचुन मांझी अभी पुलिस की पकड़ से बाहर हैं। जरमुंडी के ठेकेदार विकास कुमार से 27 सितंबर को रंगदारी मांगी गयी थी। जबकि 5 अक्टूबर को अपराधियों ने उसकी जेसीबी पर गोली चलायी थी। शनिवार को दोनों अपराधियों को कोर्ट के समक्ष प्रस्तुत किया गया, जहां से दोनों को 14 दिनों की न्यायिक हिरासत में जेल भेज दिया गया।

गंगाधन व चुनचुन ने फोन पर मांगी थी रंगदारी

एसपी वाईएस रमेश ने बताया कि 27 सितंबर को गंगाधर मांझी और चुनचुन मांझी ने ठेकेदार विकास कुमार से मोबाईल पर फोन कर 20 लाख रुपये की रंगदारी मांगी थी। पर, वह 40 हजार रुपये से अधिक देने के लिए तैयार नहीं था। 5 अक्टूबर को प्लानिंग के तहत रंजन राय, दिलीप पुजहर, गंगाधर मांझी और चुनचुन मांझी विकास कुमार की जेसीबी के शीशे पर गोली चलाकर भाग गये। इन अपराधियों का मानना था कि गोली चलने से विकास भयभीत हो जायेगा और रंगदारी की राशि देने के लिए तैयार हो जायेगा।

सूचना मिलने पर मोबाईल नंबर 8670307981 के धारक के खिलाफ भादवि की धारा 387 के तहत जरमुंडी थाना में कांड संख्या 70/19 दर्ज कर अभियुक्तों के गिरफ्तारी के लिए जरमुंडी एसडीपीओ अनिमेष नैथानी के नेतृत्व में छापामार टीम का गठन किया गया था। पुलिस ने अनुसंधान के आधार पर सबसे पहले जरमुंडी के दामुसिंघा गांव से रंजन राय को गिरफ्तार कर उससे पूछताछ की। साथ ही उसकीनिशानदेही पर जरमुंडी के सिटिकबोना (कुरूवा) से दिलीप पूजहर को गिरफ्तार किया गया। इनके पास से मोबाईल बरामद किया गया पर अभी हथियार बरामद नहीं किया जा सका है। इस अपराध के मास्टर माइंड गंगाधार मांझी और चुनचुन मांझी की गिरफ्तारी के बाद हथियार भी बरामद कर लिया जायेगा। एसपी ने बताया कि गंगाधार मांझी और चुनचुन मांझी की दोस्ती जेल में हुई थी। बाद में रंजन राय की दोस्ती चुनचुन से हुई थी।

22 महीने पहले न्यायिक हिरासत से भागा था पुजहर

एसपी ने यह भी बताया कि दिलीप पूजहर जामा थाना कांड संख्या 58/16, दिनांक 04.07.2016 के अंतर्गत साजिश के तहत हत्या के मामले में दुमका जेल में बंद था। नवंबर 2017 में उसे इलाज के लिए सदर अस्पताल में भर्ती कराया गया था, जहां से वह 7 जनवरी 2018 को फरार हो गया था। जिसको लेकर नगर थाना में उसके खिलाफ भादवि की धारा 224 के तहत मामला दर्ज है।

You May Also Like

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *